ऐसा नहीं कहा जा सकता कि वकीलों का जीवन अन्य लोगों से ‘अधिक मूल्यवान’ है: न्यायालय

ऐसा नहीं कहा जा सकता कि वकीलों का जीवन अन्य लोगों से ‘अधिक मूल्यवान’ है: न्यायालय
ऐसा-नहीं-कहा-जा-सकता-कि-वकीलों-का-जीवन-अन्य-लोगों-से-‘अधिक-मूल्यवान’-है-न्यायालय

नयी दिल्ली, 14 सितंबर (भाषा) उच्चतम न्यायालय ने कोविड-19 या अन्य किसी कारण से जान गंवाने वाले 60 वर्ष से कम आयु के वकीलों के परिजनों को 50-50 लाख रुपए का मुआवजा देने का केन्द्र को निर्देश देने के लिये दायर याचिका मंगलवार को खारिज कर दी। न्यायालय ने कहा क्लिक »-www.ibc24.in

अन्य खबरें

No stories found.