chandigarh-number-holders-will-not-get-smart-phones-in-haryana
chandigarh-number-holders-will-not-get-smart-phones-in-haryana
चंडीगढ़

चंडीगढ़: हरियाणा में नंबरदारों को नहीं मिलेंगे स्मार्ट फोन

news

वित्त विभाग ने बजट से पहले फाइल की वापस अब फिर से होगा योजना पर मंथन चंडीगढ़, 15 फरवरी। हरियाणा के नंबरदारों को इस साल भी स्मार्ट फोन नहीं मिलेंगे। कोरोना के कारण वित्तीय संकट का हवाला देते हुए हरियाणा वित्त विभाग ने फाइल लौटा दी है। राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से इसके लिए प्रस्ताव बनाकर भी सरकार के पास भेजा गया था। सूत्रों का कहना है कि सरकार ने फिलहाल यह फाइल लौटा दी है। अब इस योजना पर नये सिरे से मंथन होगा। यह साफ हो चुका है कि इस बार के बजट में नंबरदारों को स्मार्ट फोन दिए जाने की योजना को शामिल नहीं किया जाएगा। बता दें कि प्रदेशभर में 15 हजार के लगभग नंबरदार हैं। राज्य की भाजपा-जेजेपी गठबंधन सरकार ने सभी नंबरदारों को स्मार्ट फोन से लैस करने का निर्णय लिया था। फिलहाल इस योजना को टाल दिया गया है।राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्रालय डिप्टी सीएम दुष्यंत सिंह चौटाला के पास है। विभाग से जुड़े सूत्रों का कहना है कि शुरूआत में यह प्रस्ताव बनाया था कि नंबरदारों को फोन देने का फैसला संबंधित जिलों के डीसी पर ही छोड़ दिया जाए। डिप्टी सीएम ने इस प्रस्ताव को यह कहते हुए रद्द कर दिया था कि चंडीगढ़ से ही किसी एक सरकारी एजेंसी के जरिये स्मार्ट फोन खरीद जाएं।पूरी योजना बनाकर सरकार के पास भेजी गई तो उसे फिलहाल के लिए रोकने के आदेश दिए गए। साथ ही, इस पर नये सिरे से मंथन करने को कहा गया है। ऐसे में बहुत संभव है कि आने वाले दिनों में स्मार्ट फोन देने की योजना पर सीएम मनोहर लाल खट्टर व डिप्टी सीएम दुष्यंत सिंह चौटाला विभाग के आला अफसरों के साथ विचार-विमर्श करें। वित्त विभाग से भी इस बारे में चर्चा की जाएगी। दूध के दाम भी बढ़ा सकती है सरकार प्रदेश सरकार दूध उत्पादक किसानों को बड़ी राहत देने की कोशिश में है। सरकार द्वारा खरीदे जा रहे दूध के रेट बढ़ाए जा सकते हैं। इसका फायदा हजारों की संख्या में दूध उत्पादक किसानों व इससे जुड़े लोगों को मिलेगा। निर्णय लेने से पहले सरकार वित्त विभाग से भी चर्चा करेगी ताकि इस फैसले के बाद पडऩे वाले वित्तीय बोझ का समय रहते प्रबंध किया जा सके।प्रदेश में बुढ़ापा, विधवा, बेसहारा महिला व दिव्यांगों की पेंशन में भी बढ़ोतरी को लेकर विचार-विमर्श चल रहा है। भाजपा की गठबंधन सहयोगी जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) द्वारा सरकार पर इसके लिए दबाव बनाया जा रहा है। हिन्दुस्थान समाचार/संजीव/ नरेन्द्र जग्गा-hindusthansamachar.in