veer-kunwar-singh-university-aara-towards-self-sufficiency-in-matters-related-to-examinations
veer-kunwar-singh-university-aara-towards-self-sufficiency-in-matters-related-to-examinations
बिहार

वीर कुंवर सिंह यूनिवर्सिटी आरा परीक्षा सम्बन्धित कार्यो के मामले में आत्मनिर्भरता की ओर

news

आरा,19 फरवरी(हि. स)। वर्षो बाद वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय आरा के कुलपति प्रो.देवी प्रसाद तिवारी की दूरदर्शी नीति और सूझ बूझ से विवि की परीक्षा शाखा को आत्मनिर्भर करने के प्रयास तेज हो गए हैं। विवि लम्बे समय के बाद आउटसोर्सिंग एजेंसी से अलग होकर अपने कंप्यूटर शाखा से रिजल्ट बनाने की तरफ बढ़ चला है। पहली बार विवि में स्नातक खण्ड एक सत्र 2018-21 की परीक्षा प्रपत्र ऑनलाइन भरने की कवायद शुरू हो गई है।इसके पहले निजी एजेंसी से विवि ऑनलाइन परीक्षा का फॉर्म भरवाता रहा है। विवि द्वारा अपने कम्प्यूटर शाखा से अब स्नातक और स्नातकोत्तर के ऑनलाइन परीक्षा प्रपत्र तो भरे ही जाने लगे हैं साथ ही रिजल्ट भी तैयार किये जा रहे हैं। कई वर्षों से निजी एजेंसियों ने रिजल्ट बनाने और ऑनलाइन परीक्षा फॉर्म भरने के नाम पर करोड़ो रुपये विवि से प्राप्त किया है बावजूद इसके रिजल्ट को सुधारने के लिए छात्रो को विवि का चक्कर लगाना पड़ता है और छात्रो को रिजल्ट सुधारने में महीनों लग जाते हैं। रिजल्ट में बड़े पैमाने पर पेंडिंग की समस्या के बाद विवि ने खुद अपने कंप्यूटर सेंटर से ऑनलाइन फॉर्म और रिजल्ट तैयार करने की कोशिशें तेज कर दी है। इधर विवि के आत्मनिर्भर होते देख निजी एजेंसियों के संचालकों के होश उड़े हुए हैं।उन्हें अब लगने लगा है कि उनकी करोड़ो की कमाई और मनमानी अब नही चलने वाली है। पहले के छात्रों के ऑनलाइन फॉर्म और रिजल्ट के डाटा को अब निजी एजेंसी के संचालक उपलब्ध नही करा रहे हैं।ऐसा विवि को दबाव में लेने और फिर से उन्हें ही ऑनलाइन फॉर्म और रिजल्ट का टेंडर देने को विवश करने के लिए डाटा को उपलब्ध नही कराया जा रहा है। कुलपति प्रो.तिवारी ने बिना किसी दबाव के अपने कंप्यूटर सेंटर से ही छात्रो के सभी कार्य कराने का आदेश दे दिया है।कुलपति के आदेश के बाद ,विवि अब परीक्षा के मामले में आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ चला है।विवि के इस निर्णय से परीक्षा विभाग को करोड़ो रूपये की बचत होगी और रिजल्ट में पेंडिंग की समस्या से छात्रो को निजात मिलेगी।विवि के इस प्रयास से ससमय छात्रो को रिजल्ट भी प्राप्त हो जाएगा। बता दें कि मोटे कमीशन और लूटपाट को लेकर विवि के अपने कंप्यूटर सेंटर से ऑनलाइन फार्म भरवाने और रिजल्ट तैयार करने के कार्यो को छीनकर आउटसोर्सिंग एजेंसी को काम सौंपे गए थे और परीक्षा सम्बन्धी कार्यो को मोटे दर पर टेंडर देकर मोटे कमीशन प्राप्त करने का सिलसिला जारी था कि इसी बीच नए कुलपति प्रो.तिवारी ने विवि की कम्प्यूटर शाखा को पुनः परीक्षा सम्बन्धी कार्य सौंप कर विवि के करोड़ो रूपये की बचत के लिए कार्य शुरू करा दिया है।कुलपति के कार्यो की प्रशंसा विवि शिक्षक संघ,छात्र संगठन,छात्र और बुद्धिजीवी कर रहे हैं। विवि लगातार आर्थिक लूट और अराजकता से बाहर निकल रहा है। हिन्दुस्थान समाचार/सुरेन्द्र/चंदा

AD
AD