the-writer-demanded-the-construction-of-a-memorial-for-the-martyrs-in-the-august-revolution
the-writer-demanded-the-construction-of-a-memorial-for-the-martyrs-in-the-august-revolution
बिहार

लेखिका ने की अगस्त क्रांति में शहीदों के स्मारक निर्माण की मांग

news

सहरसा,29 अप्रैल(हि.स.)। जिला मुख्यालय के कायस्थ टोला निवासी शिक्षिका व लेखिका नीतू झा ने युवा एवं कला संस्कृति मंत्री डॉ आलोक रंजन को सहरसा के शहीदों के स्मारक निर्माण कराने को लेकर ज्ञापन सौपा है । मंत्री ने शहीदों के सम्मान में स्मारक निर्माण में नियामक हरसंभव प्रयास एवं सहायता करने का आश्वासन दिया। झा ने कहा कि अगस्त क्रांति में सहरसा के शहीदों के सलाम नामक पुस्तक का लेखन किया जा रहा है। जिसमें सभी शहीदों के घर जाकर ऐतिहासिक तथ्य एवं महत्वपूर्ण जानकारी इकट्ठा किया तो पता चला कि सात शहीदों में केवल दो शहीदों के ही स्मारक बने है। जिसमें चैनपुर निवासी भोला ठाकुर का जो डाॅ रंजन द्वारा विधायक फंड से स्मारक बनाया गया था। दूसरा धीरो राय का हैलेकिन शेष पांच कांतिकारियों के स्मारक नहीं बन पाया है। ज्ञात हो कि 29 अगस्त 1942 को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के आह्वान पर अगस्त क्रांति में करो या मरो का नारा देकर पूरे देश में क्रांति का बिगुल फूंका गया था ।बापू के आह्वान पर सहरसा में भी क्रांतिकारियो ने अंग्रेजी हुकूमत के विरूद्ध उग्र आंदोलन किया था। लेकिन बर्बर हुकूमत ने कांतिकारियो को गोलियों से भून दिया गया। जिसमें सहरसा के सात क्रांतिवीर अमर शहीद चैनपुर निवासी भोला ठाकुर, एकाढ निवासी धीरो राय,बनगांव निवासी हीराकांत झा विद्यार्थी, पुलकित कामत, मधेपुरा निवासी चुल्हाय यादव, बाजा सिंह, नरियार निवासी केदारनाथ तिवारी, बलहा गढिया निवासी कालेश्वर मंडल शहीद हो गए थे । लेखिका ने सभी क्रांतिकारियों के स्मारक निर्माण की मांग की है ताकि आने वाली पीढी इन क्रांतिवीर की जीवनी पढ गौरवान्वित हो सके।मंत्री डाॅ रंजन ने पुस्तक लेखन के लिए शिक्षिका को बधाई व शुभकामनाएं दी । हिन्दुस्थान समाचार/अजय