चुनाव न होने पर पंचायत प्रतिनिधियों का कार्यकाल बढ़ाया जाय : जीतन राम मांझी

चुनाव न होने पर पंचायत  प्रतिनिधियों का कार्यकाल बढ़ाया जाय : जीतन राम मांझी
tenure-of-panchayat-representatives-should-be-extended-if-elections-are-not-done-jitan-ram-manjhi

पटना, 28 मई (हि.स.)। बिहार की राजनीति में पंचायत चुनाव का मामला भी तूल पकड़ता जा रहा है। लगातार सरकार में शामिल पार्टियां भी पंचायत चुनाव को लेकर सरकार को सुझाव दे रही हैं। हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा यानी हम के अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने बिहार में पंचायत चुनाव नहीं होने की स्थिति में पंचायत प्रतिनिधियों का कार्यकाल बढ़ाने की मांग की है।शुक्रवार को मांझी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को आड़े हाथों लेेते हुए कहा कि बिहार में मौजूदा स्थिति को देखते हुए कम से कम छह महीनों के लिए पंचायत प्रतिनिधियों का कार्यकाल बढ़ा दिया जाना चाहिए। मांझी ने ट्वीट करते हुए लिखा है कई बार आपातकाल के दौरान लोकसभा के कार्यकाल को संविधान के आर्टिकल 352 के तहत बढ़ा दिया जाता है।कोरोना वायरस संकट को देखते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से आग्रह है कि पंचायत प्रतिनिधियों का कार्यकाल कम से कम 6 माह के लिए बढ़ा दिया जाय जिससे ग्रामीण इलाके का विकास कार्य चलता रहे। बता दें कि इससे पूर्व भी भाजपा सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र लिखा था। रामकृपाल यादव ने सीएम नीतीश को पत्र लिखकर आग्रह किया था कि कोरोना वायरस के दौर में ग्रामीण विकास कार्य बाधित ना हो इसलिए पंचायत प्रतिनिधियों का कार्यकाल फिलहाल बढ़ा दिया जाए। हिन्दुस्थान समाचार/चंदा/विभाकर

अन्य खबरें

No stories found.