sugar-coal-and-paper-factories-in-bihar-on-the-verge-of-closure-tariq-anwar
sugar-coal-and-paper-factories-in-bihar-on-the-verge-of-closure-tariq-anwar
बिहार

बिहार में चीनी, जुट व कागज की कारखाने बंद होने की कगार पर : तारिक अनवर

news

कटिहार, 17 फरवरी (हि.स.)। कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव तारिक अनवर ने बुधवार को कटिहार में प्रेसवार्ता कर कहा कि नीतीश कुमार बिहार के ऐसे दूसरे मुख्यमंत्री हैं जिन्हें लगातार 16 सालों तक मुख्यमंत्री बनने का मौका मिला। परंतु अफसोस की बात है कि बिहार में पहले से चल रही चीनी मील, जुट मील, पेपर मील सहित कई कारखाने एक एककर बंद होती जा रही है। तारिक अनवर ने कहा कि पहली बार मुख्यमंत्री की कुर्सी संभालने के बाद नीतीश कुमार ने कहा था कि बिहार कृषि प्रधान राज्य है, उस हैसियत से यहां फूड प्रोसेसिंग का काम तेजी से किया जायेगा। खेती पर आधारित उद्योग लगाए जाएंगे, लेकिन 16 सालों में कुछ भी नया कल कारखाने नही लगे। नए कृषि कानूनों को वापस लेने और फसल के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की गारंटी की मांग को लेकर धरने पर बैठे किसानों के समर्थन में अनवर ने कहा कि हमेशा से होता रहा है कि जिनके लिए कोई कानून बनता है, सबसे पहले उस वर्ग को विश्वास में लिया जाता है। परंतु नए कृषि कानून बनाने से पहले ऐसा नही हुआ। देश के अंदर सैकड़ों किसान संगठन है, किसी को भी विश्वास में नही लिया गया और ऐसे समय में यह बिल लाया गया जा देश मे कोरोना का प्रकोप चल रहा था। तारिक अनवर ने कहा कि यह बिल किसानों के लिए नही बल्कि बड़े बड़े उधोगपतियों के हित में बनाया गया है। इन कानून को गहराई से अध्ययन किया जाए तो देखेंगे कि हर चीज पर से अंकुश हटा दिया गया है। पूरे कानून में भंडारण व खरीद और कीमत पर कोई नियंत्रण नही है। देश में अनाज का सालाना 40 लाख करोड़ का व्यापार होता है। अभी तक अडानी और अम्बानी जैसे उधोगपति की नजर रेल, हवाई जहाज जैसे उपकरणों के अलावा सड़क पर थी। अब केंद्र की सरकार अनाज भंडारण की कमान नए कृषि कानून बनाकर उधोगपति के हाथों में देने का काम किया है। बंगाल चुनाव की सवाल पर तारिक अनवर ने कहा कि इस बार पश्चिम बंगाल में कांग्रेस और बाम दल की सरकार बनेगी। वहां कांग्रेस मुख्य विपक्षी दल है। भाजपा लोगों की मन में घृणा और नफरत की भावना उभारकर राजनीतिक लाभ लेना चाहती है, लेकिन यह सम्भव नही है। वहां के लोग तीसरा विकल्प चाहते हैं और कांग्रेस और बाम दल तीसरा विकल्प होगा। हिन्दुस्थान समाचार/विनोद-hindusthansamachar.in

AD
AD