प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने नेता प्रतिपक्ष पर कसा तंज

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने नेता प्रतिपक्ष पर कसा तंज
state-bjp-president-taunted-the-leader-of-the-opposition

पटना, 09 जून (हि.स.)। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने तेजस्वी यादव पर तंज कसते हुए कहा कि नवीं पास लोग भी आज बीपीएससी की बात करने लगे हैं। संजय जायसवाल ने बुधवार को अपने फेसबुक पोस्ट के माध्यम से नेता प्रतिपक्ष पर तंज कसते हुए कहा कि बिहार प्रशासनिक सेवा (बीपीएससी) का रिजल्ट देख कर हमारे नवीं पास नेता जी को पेट में जबरदस्त दर्द हो रहा है। उनकी पीड़ा यह है कि पिछड़ों का कट ऑफ मार्क सामान्य वर्ग के बराबर कैसे हो गया। कह रहे हैं कि फिर रिजर्वेशन से क्या फायदा है। नवीं पास नेता जी बहुत खुश होते कि अगर सामान्य वर्ग के 535 के बदले पिछड़े वर्ग का 250 पर चयन होता। संजय जयसवाल ने कहा कि इनके पिता (लालू यादव) ने बहुत मेहनत से चरवाहा विद्यालय बनाया था और जीवन भर पिछड़ों को लाठी में तेल पिलाने की ही राजनीति समझाए। पढ़ाई के मामले में भी वह अपने समय के सरकारी नौकरियों की तरह पक्के नहीं काम करने वाले समाजवादी थे। न वे चाहते थे कि बिहार के बेटे पढ़ाई करें और ना ही उन्होंने अपने बेटों को पढ़ाया। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि आज जब गरीब पिछड़ों के बेटे सामान्य वर्ग के बराबर पहुंच गए हैं तो इनको अपना राजनैतिक भविष्य समाप्त होता दिख रहा है। आज अनुसूचित जनजाति के बच्चे 514 और अनुसूचित जाति के बच्चे भी 490 अंक पर चयनित होकर सभी वर्गों के पास पहुंच चुके हैं। यही बाबा साहब भीमराव अंबेडकर जी का सपना था जिसको आज के युवा जमीन पर उतार रहे हैं। मेडिकल परीक्षा में 80 के दशक में 20 प्रतिशत आरक्षण लड़कियों के लिए होता था और सामान्य वर्ग और अनुसूचित जाति वर्ग में लगभग 40 प्रतिशत नंबर का अंतर था। उन्होंने कहा कि 90 के दशक में मेडिकल कॉलेज में स्थितियां ऐसी हो गई कि महिलाओं का आरक्षण 20 प्रतिशत से घटाकर तीन प्रतिशत करना पड़ा क्योंकि बेटियां 65 प्रतिशत सीटों पर हो जाती थीं। आज यह देखना बहुत ही सुखद है कि सामान्य वर्ग और पिछड़ा वर्ग का एक बराबर कट ऑफ लिस्ट है।अनुसूचित जाति वर्ग भी थोड़े ही अंतर पर खड़ा है। अगले 5 सालों में यह भी खत्म हो जाएगा । बाबा साहब अंबेडकर जी को सच्ची श्रद्धांजलि तभी होगी जब अनारक्षित या आरक्षित वर्ग के बच्चे एक बराबर कट ऑफ मार्क लेकर इस देश को आगे बढ़ाएंगे। हां इससे केवल जाति के नाम पर वैमनस्य फैलाने की राजनीति करने वाले नेतागण सदा के लिए समाप्त अवश्य हो जाएगें। हिन्दुस्थान समाचार/गोविन्द