भोजपुर सहित शाहाबाद प्रक्षेत्र में लॉक डाउन के दौरान पशुपालक परेशान,दूध की बिक्री पर पड़ा असर
भोजपुर सहित शाहाबाद प्रक्षेत्र में लॉक डाउन के दौरान पशुपालक परेशान,दूध की बिक्री पर पड़ा असर

भोजपुर सहित शाहाबाद प्रक्षेत्र में लॉक डाउन के दौरान पशुपालक परेशान,दूध की बिक्री पर पड़ा असर

आरा,23 जुलाई(हि. स)।भोजपुर सहित संपूर्ण शाहाबाद प्रक्षेत्र में कोरोना के बढ़ते खतरे के बीच जारी लॉक डाउन में पशुपालकों को दूध के दाम नही मिल रहे हैं। चारा और रखरखाव पर भारी भरकम खर्च के बावजूद पशुपालकों को दूध की बिक्री ठप होने से खर्च निकलना भी मुश्किल हो गया है। लॉक डाउन की मार से भोजपुर, बक्सर,कैमुर और रोहतास के पशुपालक खासे परेशान हैं। पशुपालकों का दूध रेस्टोरेंट,मिठाई की दुकानें और होटलों में आपूर्ति की जाती है किंतु लॉक डाउन में ये सभी बन्द हैं और पशुपालकों के दूध की कीमत नही मिल रही है। बड़ी संख्या में मिठाई के दुकानदार इन पशुपालकों से ही नियमित दूध खरीदते हैं और छेना और खोवा बनाकर तरह तरह की मिठाईयां बनाकर कमाई करते हैं। होटलों और रेस्टोरेन्ट में भी चाय,कॉफी और अन्य भोजन सामग्रियों के लिए इन पशुपालकों से ही नियमित दूध की खरीददारी की जाती है। लॉक डाउन के कारण आवागमन तो बन्द है हीं साथ ही रेस्टोरेंट,मिठाई की दुकानें और होटल भी पूरी तरह बन्द कर दिए गए हैं। कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए ऐसा किया गया तो पशुपालको की आमदनी पर सीधा असर हुआ है और पशुपालक पशुओं के चारे का इंतजाम भी करने में असमर्थ नजर आते हैं। रोहतास के बिक्रमगंज में जहां पशुपालकों से प्रतिदिन 35 हजार लीटर दूध सुधा डेयरी को प्राप्त होती थी उसमें भी पांच हजार लीटर प्रतिदिन की गिरावट आई है और अब 30 हजार लीटर दूध ही प्रतिदिन पशुपालकों से आपूर्ति हो रही है। यह आंकड़ा सिर्फ रोहतास के बिक्रमगंज में ही नही है बल्कि आरा, पीरो, जगदीशपुर,शाहपुर,संदेश, बड़हरा,बक्सर,डुमरांव,नोखा,काराकाट, नासरीगंज,मोहनिया,भभुआ आदि इलाको में भी है जहां डेयरी को पशुपालकों से प्रतिदिन मिलने वाले दूध की आपूर्ति में गिरावट आई है। पशुपालकों के सामने लॉक डाउन के दौरान बड़ी मुसीबत खड़ी हो गई है और शाहाबाद प्रक्षेत्र के पशुपालक परेशान हो उठे हैं। हिन्दुस्थान समाचार/सुरेन्द्र-hindusthansamachar.in

Last updated