sanskrit-language-literature-conservation-and-promotion-program-organized
sanskrit-language-literature-conservation-and-promotion-program-organized
बिहार

संस्कृत भाषा साहित्य के संरक्षण व संवर्धन कार्यक्रम आयोजित

news

मधुबनी,03अप्रैल,(हि.स.)।संस्कृत भाषा साहित्य के संरक्षण व संवर्धन को शनिवार को कार्यक्रम आयोजित की गई।जेएनबी आदर्श संस्कृत महाविद्यालय लगमा में शनिवार को वाग्वर्धिनी साप्ताहिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। साहित्य विभाग के सहायकाचार्य डॉ रमेश कुमार झा की अध्यक्षता में आयोजित कार्यक्रम में महाविद्यालय के शिक्षकों व छात्रों ने सारगर्भित वैषयिक संभाषण प्रस्तुत किया। इस अवसर पर डॉ रमेश कुमार झा ने कहा कि संस्कृत भाषा साहित्य जगत ख्याति अर्जित कर लिया है। संस्कृत भाषा शैली के गहण अध्ययन से छात्रों के जीविकोपार्जन में कहीं कोई कठिनाई नहीं हो सकती है। संस्कृत भाषा साहित्य के संवर्धन व संरक्षण के लिए सरकार कृत संकल्पित है। रूपेश कुमार झा के मंच संचालन में आयोजित कार्यक्रम में छात्रों ने संस्कृत भाषा साहित्य की उपादेयता विषय भाषण प्रस्तुत किया।अवसर पर मैथिली प्राध्यापक सोनी कुमारी ने कहा कि आदर्श महाविद्यालय की गरिमामयी इतिहास यहां की विशेषता को दर्शाती है। पर्याप्त छात्रों की उपस्थिति यहां की विशेषता रही है।सोनी ने कहा कि क्षेत्रीय भाषा मैथिली साहित्य के छात्र- छात्राओं के लिए नियमित वर्ग संचालन यहां हो रहा है।साथ ही मिथिला पेंटिंग व लोक चित्रकला की सर्टिफिकेट कोर्स की व्यवस्था यहां शीघ्र शुरू हो रही है।जिससे जीविकोपार्जन का लाभ यहां ग्रामीण छात्राओं व महिलाओं को मिलेगी। कार्यक्रम को सम्बोधित करते डॉ कृष्ण मोहन झा वैदिक ने कहा कि यहां पर सुबह से लेकर रात्रि तक छात्रों में पढ़ने की ललकता रहती है।आश्रम में रहकर पढ रहे छात्रों द्वारा वेदपाठ, ईश्वर वंदना व मंगलाचरण यहां की परम्परागत व्यवहार रहा है। वेद ध्वनि, प्रार्थना व गुरू वंदना के बाद ही छात्रगण यहां प्रातः दिनचर्या शुरू करते हैं। हिन्दी के प्राध्यापक डॉ संगीत कुमार झा ने कहा कि यहां नियमित छात्रों की उपस्थिति से महाविद्यालय परिपूर्ण है। भोजन के साथ साथ समृद्ध पुस्तकालय से पुस्तकों की आपूर्ति छात्रों को की जाती है। महाविद्यालय के प्रधानाचार्य डॉ सदानन्द झा द्वारा छात्रोंपयोगी कई योजनाएं वर्तमान में महाविद्यालय में चलाया जा रहा है। जिसका भरपूर लाभ छात्रों को मिल रहा है।महाविद्यालय में छात्रों को रहने पढने सहित पुस्तकों के साथ- साथ अनुशासन अनुपालन सुनिश्चित किया गया है।संस्कृत भाषा साहित्य सहित पाठ्यक्रम को अनुमोदित सभी विषयों की उत्कृष्ट पुस्तकों की संग्रह यहां के समृद्ध पुस्तकालय में है। जिसका लाभ छात्र ले रहे हैं। अवसर पर सोनी कुमारी डॉ सुशील चौधरी, डॉ संगीत कुमार झा सहित कई प्राध्यापक उपस्थित थे।महाविद्यालय के छात्रों में पीयूष कुमार झा, अंकित वात्सल्य धनंजय कुमार मिश्र ,सत्यम कुमार झा,दुर्गेश कुमार झा, राहुल कुमार झा ने कार्यक्रम में अपना विचार व्यक्त किया। हिन्दुस्थान समाचार/लम्बोदर