सहरसा जिले के सलखुआ अंचल क्षेत्र में बाढ़ व जल जमाव से भारी परेशानी
सहरसा जिले के सलखुआ अंचल क्षेत्र में बाढ़ व जल जमाव से भारी परेशानी
बिहार

सहरसा जिले के सलखुआ अंचल क्षेत्र में बाढ़ व जल जमाव से भारी परेशानी

news

सहरसा,30 जुलाई(हि.स.)। सहरसा जिले के सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडल मुख्यालय से कोसी का दियारा क्षेत्र फरकिया जाने का मुख्य द्वार कहलाने वाली पक्की सड़क पर गोरदह पंचायत के लगजोड़ा पुल के समीप करीब 200 मीटर की दूरी में ठेहुना भर बाढ़ का पानी बहने लगा है।रोजाना जलस्तर में वृद्धि जारी है। इसके कारण फरकिया व अन्य जगहों पर जानेवालों को घोर कठिनाइयों का सामना पड़ रहा है। ऐसी स्थिति में लोगों को जान हथेली पर रख इस सड़क से यात्रा करना मजबूरी है। पूर्वी कोसी तटबंध के भीतर व बाहर की पंचायतों के लोग बारिश व बाढ़ से परेशान हैं। सबसे ज्यादा परेशानी तटबंध के कछार पर बसी पंचायत के लोगों को हो रही है।। सलखुआ अंचल की दो पंचायत गोरदह व उटेशरा पूर्वी कोसी तटबंध के कछार पर बसी हैं ।उटेशरा पंचायत के कुछ गांव तटबंध के अंदर भी हैं ।दोनों पंचायतों के लोगों को भारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।किसानों की हजारों एकड़ में लगी धान व अन्य फसल डूबकर बर्वाद हो गई है।गांव के ऊंचे स्थानों को छोड़कर अधिकांश भागों में पानी ही पानी है।दोनों पंचायतों के सैकड़ों घरों में पानी रहने से फूस के व कच्चे घर क्षतिग्रस्त हो गये हैं। बाढ़ पीड़ितों को एक स्थान से दूसरे स्थानों पर जाने के लिए गोरदह पंचायत में अंचल प्रशासन ने एक भी नाव नहीं दी है जबकि उटेशरा पंचायत में छह नावें परिचालित हैं । सबसे बड़ी समस्या पशुचारे की है। खेत-खलिहानों में बाढ़ का पानी आ जाने से पशुचारे की घोर किल्लत हो गई है। मजबूरन पशुपालक एवं परिवार की महिला,बच्चे को पानी में तैरकर या निजी नाव से जलकुंम्भी संग्रह कर काटकर मवेशी को खिलाना पड़ता है। सीपीआई सलखुआ अंचल सचिव उमेश चौधरी,धनंजय यादव,संतोष कुमार साह, मिथिलेश कुमार और उप मुखिया सुशील यादव आदि ने सरकार से बाढ़ पीड़ितों के बीच आवश्यक सामान की व्यवस्था करने के साथ राहत कार्य चलाने की मांग की है। हिन्दुस्थान समाचार/अजय/विभाकर-hindusthansamachar.in