public-representatives-opposed-urbanization-demarcation-in-katihar-master-plan
public-representatives-opposed-urbanization-demarcation-in-katihar-master-plan
बिहार

कटिहार मास्टर प्लान में शहरीकरण सीमांकन का जनप्रतिनिधियों ने किया विरोध

news

कटिहार, 27 फरवरी (हि.स.)। बिहार सरकार के प्रस्तावित 'कटिहार मास्टर प्लान' में जिले के प्राणपुर, डंडखोरा, हसनगंज, मनसाही, बरारी, कोढ़ा आदि प्रखंडों के पंचायतों को कटिहार शहर में शामिल करने के प्रस्ताव पर विरोध के स्वर उठने लगे है। त्रिस्तरीय पंचायत जनप्रतिनिधि के अलावा बुद्धिजीवी व सामाजिक कार्यकर्ता सरकार के इस निर्णय के विरुद्ध चरणबद्ध आंदोलन के तैयारियों में जुट गई है। उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार के दिशा निर्देश के आलोक में जिला पदाधिकारी कंवल तनुज ने मास्टर प्लान के तहत शहरीकरण को लेकर सीमांकन करने के लिए स्थानीय प्रशासन को निर्देशित किया है। प्राणपुर मुखिया संघ के अध्यक्ष सऊद आलम ने शनिवार को हिन्दुस्थान समाचार को बताया कि कटिहार मास्टर प्लान में शहरीकरण सीमांकन का विरोध के संदर्भ उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद को एक ज्ञापन सौंपा गया है। मुखिया ने बताया कि प्राणपुर प्रखंड के सभी बारह पंचायत के 90 प्रतिश्त आबादी कृषि पर निर्भर है। साथ ही कृषि एवं खेतिहर क्षेत्र में मजदूरी ही आजीविका का मुख्य साधन है। इसलिए सभी 12 पंचायत शहरीकरण का मानक को पूरा नहीं करती है। प्राणपुर प्रखंड के सभी बारह पंचायत बाढ़ प्रभावित क्षेत्र है। प्राणपुर प्रखंड के सभी राजस्व ग्राम में से 40. राजस्व ग्राम नदी-नाली से भरा पड़ा है। यहां के सभी बारह पंचायतों में एससी, एसटी परिवार की संख्या ज्यादा है। ज्यादातर मजदूर जीविकोपार्जन के लिए प्रवासी जीवन बिताने को मजबूर रहते है। इस लिए प्रखंड के ग्रामीण क्षेत्रों की योगयता किसी भी परिस्थिति में शहरीकरण की योग्यता रखने योग्य नहीं है। यहां पर कोई भी धार्मिक या ऐतिहासिक पर्यटन वाला स्थल भी नहीं है। यहां के सभी राजस्व ग्राम की भूमि निचले स्तर की है जिससे किसान अपेक्षित खेती नहीं कर पाते है। जिला जन संघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष एवं केबी झा कॉलेज के अवकाश प्राप्त प्राचार्य डॉ. राजेंद्र नाथ मंडल ने उक्त प्रखंडों के ग्रामीण क्षेत्रों को कटिहार मास्टर प्लान के तहत कटिहार शहरी क्षेत्र में शामिल करने के प्रस्ताव का पुरजोर विरोध किया है। उन्होंने कहा कि किसी भी सूरत में ऐसे ग्रामीण क्षेत्रों को कटिहार शहरी क्षेत्र में शामिल नहीं किया जाना चाहिए। स्थानीय प्रशासन को इस पूरे मामले को सार्वजनिक करना चाहिए कि आखिर ग्रामीण क्षेत्रों को शहरी क्षेत्र में जोड़े जाने का क्या मानक निर्धारित की गयी है। इस बीच कटिहार मास्टर प्लान के विरोध में शनिवार को डंडखोरा प्रखंड मुख्यालय में एक दिवसीय सांकेतिक धरना प्रदर्शन का आयोजन किया जा रहा है। हिन्दुस्थान समाचार/विनोद/चंदा