स्टाइपेंड बढोतरी की मांग को लेकर जूनियर डाक्टरों का प्रदर्शन

स्टाइपेंड बढोतरी की मांग को लेकर जूनियर डाक्टरों का प्रदर्शन
performance-of-junior-doctors-on-demand-for-stipend-increase

दरभंगा, 22 मई (हि.स.)। स्टाइपेंड बढ़ोतरी की मांग को लेकर शनिवार को डीएमसीएच के जूनियर डॉक्टर द्वारा प्राचार्य कार्यालय के समक्ष हाथों में बैनर लेकर प्रदर्शन किया गया। इस दौरान प्रदर्शनकारी जूनियर डॉक्टर समान काम के बदले समान वेतन की मांग कर रहे थे। जिस बाबत आंदोलनरत जूनियर डॉक्टर शुभम ने कहा कि इस प्रदर्शन के माध्यम से सरकार से हम लोग मांग कर रहे हैं कि एक राज्य में एक ही प्रकार का स्टाइपेंड होना चाहिए।सरकार ने 3 साल पर स्टाइपेंड को रिवाइज करने की बात कही थी। उन्होंने कहा कि आईजीएमआईएस का स्टाइपेंड को रिवाइज करके 26 हजार रुपया कर दिया गया है। लेकिन बिहार के बाकी मेडिकल कॉलेज के स्टाइपेंड 15 हजार रुपया है। जब पहली बार स्टाइपेंड का रिवाइज हुआ था तो कहा गया था कि प्रत्येक 3 साल पर स्टाइपेंड को रिवाइज किया जाएगा। लेकिन रिवीजन की बात तो दूर रही, आज तक आश्वासन तक नहीं मिला। शुभम ने कहा कि जब स्टाइपेंड रिवाइज नहीं हुआ, तो हमलोगों ने कई बार इस संबंध में स्वास्थ्य विभाग, स्वास्थ्य मंत्री के साथ ही स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव को पत्राचार किया। लेकिन नतीजा कुछ नहीं निकला। वहीं आंदोलनरत अन्य जूनियर डॉक्टरो का कहना है कि इस कोरोना महामारी के दौरान सबसे ज्यादा हताहत डॉक्टर हुए हैं। कोरोना की दूसरी लहर में बिहार में 100 से ज्यादा डॉक्टर शहीद हो चुके हैं। ऐसे में डॉक्टरों की नई फौज अपने भविष्य को लेकर काफी चिंतित हैं। इसीलिए चाहते हैं कि सरकार डॉक्टरों के लिए हेल्थ इंश्योरेंस का प्रावधान लाई जाए, जिससे निर्भीकता से उत्साहपूर्वक मरीजों की सेवा की जा सके। हिन्दुस्थान समाचार/मनोज

अन्य खबरें

No stories found.