नीम, पीपल एवं बरगद पेड़ लुप्त होने के कगार पर:देवदास

नीम, पीपल एवं बरगद पेड़ लुप्त होने के कगार पर:देवदास
neem-peepal-and-banyan-trees-on-the-verge-of-extinction-devdas

किशनगंज, 11 जून (हि.स.)। विश्व पर्यावरण पखवाड़े सप्ताह में रूईधाशा प्रेमपुल के समीप पीपल का पौधा लगाने के क्रम में शुक्रवार को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के किशनगंज जिला कार्यवाह देवदास ने कहा कि पीपल ,नीम एवं बरगद के पेड़ तो पर्यावरण संरक्षण में अहम भूूमिका रखने वाले पौधे है।क्योकि 24 घंटे ऑक्सीजन त्यागकर कार्बनडाइऑक्साइड का सेवन करता है लेकिन जिले से यह पौधा लुप्त होने के कगार पर है। उन्होनें कहा कि यहा एक किलोमीटर की दूरी पर कहीं-कहीं सड़क किनारे एक- दो पौधें दिख जाते है, मगर अब बहुत बुढ़ा हो चला ये पेड़। ।कहीं तो यहां दूर -दूर तक येे पेेेड़ दिखाई भी नही पड़ती है।इसलिए जारी उक्त अभियान में चिन्हित स्थलों पर पीपल, नीम व बरगद के पौधा लगाने पर जोर दिया जा रहा है। देवदास ने कहा कि इस वर्ष विश्व पर्यावरण दिवस से पौधा लगाने के अभियान में गति आई है ।जिले के सभी मंडलों में जगह-जगह के स्वयंसेवक के द्वारा प्रतिदिन हजार से अधिक पौधें लगा रहे हैं।केवल गत 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस में जिले के सभी मंडलों में स्वयंसेवको ने कुल पंद्रह सौ पौधा लगाये गए थे। हिन्दुस्थान समाचार/सुबोध/चंदा