कोरोना की कहर से दहशत में जी रहे हैं नालंदावासी
कोरोना की कहर से दहशत में जी रहे हैं नालंदावासी
बिहार

कोरोना की कहर से दहशत में जी रहे हैं नालंदावासी

news

बिहारशरीफ 2अगस्त (हि स)। नालंदा में शनिवार को 121 लोग कोरोना संक्रमित पाये गये,जो कुल जांच का लगभग 12 फीसदी है।शनिवार को नालंदा जिले में 1005 सैंपल की जांच की गयी,जिसमें 869 लोगों की जांच रैपिड एंटीजन किट से की गयी, जिसमें 79 लोग संक्रमित पाये गये, जबकि आरटी-पीसीआर से 87 लोगों की जांच हुई और उसमें 30 लोग संक्रमित पाये गये।इस तरह कोरोना की कहर से दहशत की जिंदगी जीनेेे को विवश हैं नालंदावासी इसी प्रकार ट्रू नेट से 49 लोगों की जांच हुई, जिसमें 12 संक्रमित पाये गये है। निश्चित तौर पर हाल के दिनों में कोरोना जांच में संक्रमितों की संख्या में कमी आयी है, लेकिन जांच की संख्या अधिक होने से संक्रमित अधिक मिल रहे है। जिला प्रशासन की योजना है कि जांच को एक हजार से भी और आगे ले जाना है। ताकि अधिक से अधिक लोगों को तेजी से जांच कर आइसोलेट किया जाय और संक्रमण की चेन को शीघ्र-अतिशीघ्र तोड़ा जा सके। बताते चले कि हाल के दिनों में कोरोना संक्रमितों की संख्या गांव-ग्रामों में भी अधिक मिलने लगी हैं प्रायः प्रखंड मुख्यालयों में अच्छी खासी संख्या में लोग संक्रमित पाये गये हैं और अब संक्रमण का चेन कई गांवों में पहुंचा है। खासकर हरनौत करायपरशुराय, बेन, बिंद, रहुई, परबलपुर, राजगीर, हिलसा जैसे बाजारों में हाल के दिनों में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ी है।इन प्रखंडों के ग्रामीण क्षेत्रों में हाल के दिनों में संक्रमित की संख्या बढ़ी है। तेजी से हो रहे जांच से अब गांव ग्रामों में संक्रमण का चेन पकड़ा जाने लगा है, लेकिन इसमें और तत्परता दिखाने की जरूरत है। सामान्यतः यह भी देखा जा रहा है कि जो लोग संक्रमित पाये जाते हैं और जिनमे कोरोना का कोई लक्षण नहीं है वैसे लोग होम आइसोलेट हो रहे है। लेकिन परेशानी हो रही है कि ये लोग घोषणा तो भर दे रहे हैं और घूमते-फिरते भी नजर आते है। यही वजह है कि जिला प्रशासन और स्वास्थ्य महकमा लाख प्रयास कर रही है, चेन टूट नहीं रहा है। हिन्दुस्थान समाचार/प्रमोद/चंदा-hindusthansamachar.in