विधान परिषद में भिड़े सत्ता पक्ष और विपक्ष के सदस्य, हाथापाई की नौबत

विधान परिषद में भिड़े सत्ता पक्ष और विपक्ष के सदस्य, हाथापाई की नौबत
members-of-ruling-and-opposition-clash-in-legislative-council-scuffle

पटना, 24 मार्च (हि.स.)। बिहार विधानसभा में मंगलवार को हुए बवाल के बाद बुधवार को विधानपरिषद में भी माहौल काफी गर्म रहा। पक्ष और विपक्ष के विधान परिषद सदस्य (एमएलएसी) एक दूसरे से भिड़ गए। सदन में हाथापाई की नौबत फिर से आ गई। यह वाकया उस वक्त हुआ जब परिषद में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बोल रहे थे। विधान परिषद में राजद के एमएलसी विधायकों की पिटाई का विरोध कर रहे थे। सदन की कार्यवाही के दौरान राजद के एमएलसी सुबोध राय बीच में खड़े होकर बोलने लगे। उन्होंने कहा कि विधायकों को पीटा गया है। उनका क्या इज्जत रह जायेगी। सुबोध राय का विरोध देख जदयू के एमएलसी नीरज कुमार और संजय सिंह भी खड़े होकर इस बात का विरोध करने लगे कि राजद एमएलसी शब्दों की मर्यादा भूल रहे हैं। देखते ही देखते परिषद में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी खड़े होकर बोलने लगे। इस दौरान वह काफी आक्रोश में दिखे। सीएम ने कहा कि विपक्ष के विधायकों ने विधानसभा में गुंडागर्दी किया है। वे लोग याद करें कि क्या हुआ था। जनता भी देखी है। विपक्षियों को जनता भी ठीक से जवाब देगी। आगबबूला नीतीश ने उंगली दिखाते हुए कांग्रेस के नेताओं को कहा कि वे भी राजद के चक्कर में पड़कर अपने आप को बर्बाद कर रहे हैं। जब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बोल ही रहे थे कि जदयू पार्टी के एमएलसी संजय सिंह और भाजपा के एमएलसी घनश्याम ठाकुर आपे से बाहर हो गए और अपनी सीट से उठकर सीधे राजद एमएलसी के पास चले गए। माहौल इतना गरमा गया कि सभापति अवधेश नारायण सिंह भी सीट से उठकर सदस्यों को समझाने लगे। उनसे बैठने का आग्रह करने लगे। इसके बावजूद भी संजय सिंह और घनश्याम ठाकुर अपनी सीट पर नहीं गए। वे राजद एमएलसी सुबोध राय और सुनील सिंह से उलझने लगे। एक दूसरे को उंगली दिखाने लगे। हालांकि, इस दौरान रामचंद्र पूर्वे और सत्ता पक्ष के दिलीप जायसवाल ने नेताओं को समझाकर उन्हें वापस भेजा। हिन्दुस्थान समाचार /गोविन्द/चंद्र

अन्य खबरें

No stories found.