64वीं बीपीएससी परीक्षा में 28वां रैंक लाकर मंकेश्वर गुप्ता बने एसडीएम

64वीं बीपीएससी परीक्षा में 28वां रैंक लाकर मंकेश्वर गुप्ता बने एसडीएम
mankeshwar-gupta-became-sdm-by-bringing-28th-rank-in-64th-bpsc-exam

बगहा, 8जून(हि.स.)। पश्चिमी चंपारण के बगहा नगर स्थित नरईपुर मुहल्ला के निवासी मंकेश्वर गुप्ता ने बिहार लोक सेवा ओयाग के 64वीं संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा में बाजी मारी है। किसान जितेंद्र प्रसाद गुप्ता के पुत्र मंकेश्वर ने पहले प्रयास में 28 वां रैंक प्राप्त कर अनुमंडल पदाधिकार का दर्जा लिया है। मंकेश्वर के इस सफलता से समस्त परिवार में जश्न का माहौल है। समाचार के मुताबिक मंकेश्वर गुप्ता शुरू से ही पठन पाठन मे मेधावी रहे हैं।मकेश्वर अपनी पढ़ाई बगहा से ही की है।उन्होंने एनबीएस हाई स्कूल नरईपुर बगहा 2 से दसवीं,बीबीएन कॉलेज मंगलपुर औसानी बगहा 2 से इंटरमीडिएट में टॉप करने के बाद आईआईटी के एक्जाम में पासआउट होने के बाद रुड़की आईआईटी में चयन हुआ। रुड़की आईआईटी से पासआउट होने के बाद नोएडा की कंपनी में ज्वांयन किया और चार साल तक नौकरी करने के साथ ही अथक परिश्रम कर 64वीं बीपीएससी की परीक्षा में उत्तीर्ण की है। मंकेश्वर गुप्ता से यह पूछने पर कि आपकी सफलता का श्रेय किसको जाता है, तो बताते हैं कि मेरी सफलता का सारा श्रेय माता-पिता और पूरे परिवार को है,खासकर इसका श्रेय मेरे परम पूज्य दादा जी स्व. हीरा प्रसाद की है,जिनके बताये गए हुए मार्गदर्शन एवं आशीर्वाद की बदौलत ही इस मुकाम तक पहुंच पाया हूं,और आज मेरा पूरे वंशज फल -फूल रहा हैं। उल्लेखनीय है कि जितेंद्र प्रसाद पेशे से एक किसान हैं। जिनका एक पुत्र और तीन पुत्री हैं,बड़ी पुत्री खुशबू कुमारी भारतीय रेलवे में कार्यरत हैं और दूसरे नंबर के बेटे मंकेश्वर गुप्ता एसडीएम बन गये हैं और पुत्री प्रियंका,सुहानी पढ़ते हैं। हिन्दुस्थान समाचार /अरविंद