विवेकानंद और टैगोर की धरती को रक्त रंजीत कर रही ममता : अभाविप

विवेकानंद और टैगोर की धरती को रक्त रंजीत कर रही ममता : अभाविप
mamta-making-blood-of-vivekananda-and-tagore39s-land-abvp

बेगूसराय, 04 मई (हि.स.)। पश्चिम बंगाल में विधानसभा का चुनाव परिणाम आने के बाद हो रहे बवाल को लेकर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (अभाविप) के कार्यकर्ताओं में भारी आक्रोश है। मंगलवार को अभाविप के कार्यकर्ताओं ने बेगूसराय में आक्रोश मार्च निकाला। जीडी कॉलेज अर्थशास्त्र विभाग के समीप से शुरु आक्रोश मार्च संपूर्ण कॉलेज परिसर का भ्रमण करते हुए मुख्य द्वार पर खत्म हुुआ। इस दौरान कार्यकर्ताओंं ने 'बंगाल की गलियां सूनी है, टीएमसी पार्टी खूनी है' के नारे भी लगाए। आक्रोश मार्च का नेतृत्व करते हुए प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य सोनू सरकार एवं नगर मंत्री पुरुषोत्तम कुमार ने कहा कि जिस बंगाल की धरती कभी भारत की राजनीति और संस्कृति की जन्मभूमि मानी जाती थी। आज ममता दीदी वहां खूनी क्रांति का सूत्रपात कर रही है। चुन-चुन कर राष्ट्रवादियों के ऊपर प्राणघातक हमले किए जा रहे हैं, जिसे विद्यार्थी परिषद किसी भी हालत में बर्दाश्त नहीं करेगी। स्वामी विवेकानंद और रविंद्रनाथ टैगोर की पावन धरती को ममता बनर्जी रक्त रंजीत कर रही है। राज्यपाल इस प्रकार की गतिविधियों पर रोक लगाएं। स्वाध्याय मंडल के जिला संयोजक दिव्यम कुमार एवं कॉलेज अध्यक्ष आदित्य राज ने कहा कि जब बंगाल की भूमि पर वामपंथ का किला मटियामेट हो गया तो वामपंथियों के खूनी खेल का जिम्मा दीदी एवं उनके समर्थकों ने ले लिया है। कभी विद्यार्थी परिषद तो कभी अन्य विपक्षी पार्टियों के कार्यालय को आग के हवाले किया जा रहा है। विश्वविद्यालय प्रतिनिधि घनश्याम कुमार एवं एनसीसी प्रमुख अजीत कुमार ने कहा कि जब अन्य राज्यों में किसी भी प्रकार की छोटी-मोटी घटनाएं होती है तो मीडिया एवं वामपंथियों का एक वर्ग सरकार की आलोचना में दिन-रात एक कर देता है लेकिन बंगाल में लगातार राजनीतिक हत्याएं चल रही है और स्वघोषित बुद्धिजीवियों तथा वामपंथियों का वह वर्ग चुप्पी साधे हुए हैं। आज राष्ट्रवादी इस घटना के शिकार हैं, आने वाले समय में वहां की आम जनता भी टीएमसी के अराजक तत्वों के निशाने पर होंगे, जो देश के लिए खतरे की घंटी है। हिन्दुस्थान समाचार/सुरेन्द्र/चंदा