जे पी की कर्मभूमि शेखोदेवरा का रेफरल अस्पताल पुलिस कैम्प में तब्दील
जे पी की कर्मभूमि शेखोदेवरा का रेफरल अस्पताल पुलिस कैम्प में तब्दील
बिहार

जे पी की कर्मभूमि शेखोदेवरा का रेफरल अस्पताल पुलिस कैम्प में तब्दील

news

नवादा, 31 जुलाई (हि .स.)। नवादा जिले का दुर्गम एवं अतिपिछड़े इलाकों में शुुमार कौआकोल प्रखण्ड का सोखोदेवरा लोकनायक जे पी की कर्मभूमि है। यहां ग्राम निर्माण मंडल सर्वोदय आश्रम के परिसर में 1984 में लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मुहैया कराने के उद्देश्य से रेफरल अस्पताल बनाया गया था जो विगत एक दशक से सीआरपीएफ का कैम्प बनकर रह गया है। इसके कारण यहां के लोगों को न तो इस अस्पताल से स्वास्थ्य सुविधा मिल पा रही है और न ही सरकार का इस अस्पताल को खोलने का उद्देश्य ही पूरा हो पा रहा है।तत्कालीन सरकार ने प्रदेश के इस दुर्गम व अतिपिछड़े इलाके में जिस उद्देश्य से इस अस्पताल की स्थापना की थी वह पूरा नहीं हो पा रहा है। इसके कारण इस इलाके के लोग अपने इलाज के लिए दर दर भटकने के लिए विवश हो रहे हैं। बता दें कि लगभग 10 वर्षों से अधिक समय से इस रेफरल अस्पताल को सीआरपीएफ का बेस कैम्प बना दिया गया है। सूत्रों की मानें तो इस अस्पताल के नाम पर विभाग की ओर से जीएनएम सहित अन्य कई स्वास्थ्य कर्मियों की प्रतिनियुक्ति की गई है परंतु उनकी सेवा अन्यत्र स्वास्थ्य केन्द्रों में ली जा रही है जबकि उनका वेतन भुगतान आज भी इसी अस्पताल के नाम पर हो रहा है। इस सम्बन्ध में अस्पताल की समस्या को लेकर सोखोदेवरा गांव निवासी शंकर कुमार सहित क्षेत्र के दर्जनों लोगों ने क्षेत्रीय सांसद को पत्र लिखकर इस अस्पताल में स्वास्थ्य सेवाएं बहाल कराने का आग्रह किया था। इसके बाद सांसद चंदन सिंह ने 14 नवम्बर 2019 को ही सूबे के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय को पत्र लिखकर कौआकोल के रेफरल अस्पताल को चालू कराये जाने की दिशा में उचित कार्रवाई करने का आग्रह किया। बावजूद इसके आज तक इस अस्पताल को चालू करने की दिशा में कोई ठोस कार्रवाई नहीं हो सकी है। हिन्दुस्थान समाचार/डॉ सुमन/विभाकर-hindusthansamachar.in