वीकेएसयू आरा में एक साथ कई अधिकारियों पर गिरी गाज,सीसीडीसी,डीन, प्रॉक्टर सहित कई हटाये गए

वीकेएसयू आरा में एक साथ कई अधिकारियों पर गिरी गाज,सीसीडीसी,डीन, प्रॉक्टर सहित कई हटाये गए
in-vksu-ara-many-officers-were-simultaneously-removed-including-ccdc-dean-proctor

आरा,30 जून (हि.स.)।वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय आरा के प्रभारी कुलपति प्रो.राजेन्द्र प्रसाद ने बुधवार को ताबड़तोड़ कार्रवाई करते हुए एकसाथ कई अधिकारियों को उनके पद से हटा दिया है और नई नियुक्तियां कर दी है। प्रभारी कुलपति के नए नियुक्तियों से संबधित अधिसूचना कुलसचिव ने जारी कर दी है। विवि के अध्यक्ष छात्र कल्याण प्रो.के के सिंह को हटा दिया गया है और उनकी जगह अब नए छात्र कल्याण अध्यक्ष प्रो.सिद्धेश्वर नारायण सिंह बनाये गए हैं।श्री सिंह वर्तमान में राजनीति शास्त्र विभाग में प्रोफेसर हैं। सीसीडीसी के पद पर तैनात प्रो.हीरा प्रसाद सिंह को उनके पद से हटाते हुए प्रो. जमील अख्तर को विवि का नया सीसीडीसी नियुक्त किया गया है। विवि के प्रभारी कुलपति ने प्रॉक्टर के पद पर भी नई नियुक्ति कर दी है। शिव परसन सिंह को प्रॉक्टर के पद से हटाते हुए उनकी जगह अब प्रो.ओपी राय को नियुक्त किया गया है। एमबीए के निदेशक के पद पर भी बदलाव हो गया है।एमबीए के निदेशक संजय कुमार को हटा दिया गया है और अब एच डी जैन कॉलेज आरा के वाणिज्य विभाग के प्रोफेसर जितेंद्र कुमार को एमबीए का नया निदेशक नियुक्त किया गया है।यह नियुक्ति अगले तीन सालों के लिए की गई है। कला एवं वाणिज्य संकाय के कॉलेज इंस्पेक्टर के पद पर नई नियुक्ति की गई है। जैन कॉलेज आरा के वाणिज्य विभाग के शिक्षक डॉ. सुनील कुमार को कला एवं वाणिज्य संकाय का कॉलेज इंस्पेक्टर नियुक्त किया गया है। जगजीवन कॉलेज आरा के प्राचार्य प्रोफेसर जवाहर लाल को वाणिज्य संकाय का डीन नियुक्त किया गया है। प्रभारी कुलपति द्वारा एकसाथ कई अधिकारियो को हटाए जाने की कार्रवाई को विवि के निवर्तमान कुलपति प्रो. डीपी तिवारी और डॉ.एसपी सिंह व डॉ. हनुमान पाण्डेय के विवादों से जोड़ कर देखा जा रहा है।राजभवन द्वारा भेजे गए जांच कमिटी के दो सदस्यों के साथ प्रो.डीपी तिवारी के हुए विवाद के बाद राजभवन के निशाने पर विवि के सीसीडीसी,प्रॉक्टर और अध्यक्ष छात्र कल्याण सहित कुछ अन्य पदाधिकारी आ गए थे और संभावना जताई जा रही थी कि राजभवन के निर्देश पर ऐसे अधिकारियों पर कभी भी गाज गिर सकती है।बुधवार को ऐसे सभी अधिकारियों को हटा दिया गया जिन लोगो ने जांच समिति के सदस्यों के खिलाफ हस्ताक्षर युक्त आवेदन राजभवन को भेजा था। हिन्दुस्थान समाचार/सुरेन्द्र

अन्य खबरें

No stories found.