स्वास्थ्य उपकेंद्र बना नशेड़ियों का अड्डा,चालू करने की मांग

स्वास्थ्य उपकेंद्र बना नशेड़ियों का अड्डा,चालू करने की मांग
health-sub-center-becomes-a-hub-of-addicts-demand-for-commissioning

सहरसा,22 मई (हि.स.)।जिले में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर से निबटने के लिए जिला प्रशासन प्रयत्नशील है। लेकिन जिले के कहरा प्रखंड अंतर्गत बलहापट्टी पंचायत के गढ़िया उप स्वास्थ्य केंद्र में कोई स्वास्थ्य कर्मी नहीं रहते हैं। स्वास्थ्य कर्मी नहीं रहने के कारण उप स्वास्थ्य केंद्रों में नशाखोरो का अड्डा बन गया है।कई ग्रामीणों ने आरोप लगाते हुए कहा है कि कोविड 19 जैसे वैश्विक महामारी के समय में भी गढ़िया उप स्वास्थ्य केंद्र में कोई भी स्वास्थ्य कर्मी नहीं आते हैं और ना ही कोई स्वास्थ्य संबंधी या जीवन रक्षक कोई दवा भी उपलब्धता नही है। यहां के स्वास्थ्य कर्मी कोविड-19 जैसे महामारी के समय में भी इतने लापरवाह बने हुए हैं की रात की बात तो दूर दिन में भी ताला लगा कर गायब रहते हैं। जिस कारण ग्रामीणों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। समाजसेवी बिट्टू कश्यप ने कोविड-19 के समय अपने ग्राम पंचायत के स्वास्थ्य केंद्रों के स्थिति का अवलोकन करने के उद्देश्य से वहां पहुंचे तो कई नशाखोर वहां से भागने लगे। जब वहां के कैंपस का अवलोकन किया तो कफ सिरप के खाली बोतल यत्र तत्र बिखरे मिले। स्वास्थ्य के मंदिर में नशा का ऐसा दृश्य देखकर यहां की स्वास्थ्य व्यवस्था की पोल खुलती है। ज्ञात हो कि सरकार से पैसा उगाही करने के नाम पर प्रत्येक कुछ वर्षों में अस्पताल का मरम्मत का काम कर पैसे की अवैध उगाही की जाती है।पर दुर्भाग्यपूर्ण है उप स्वास्थ्य केंद्र में ना तो नर्स, ना ही डॉक्टर और ना ही कोई स्वास्थ्य कर्मी उपलब्ध रहते हैं। श्री कश्यप ने प्रशासन का ध्यान आकृष्ट करा कहा है की कोरोना महामारी के ऐसे समय में भी डॉक्टर या अन्य स्वास्थ्य कर्मी की ड्यूटी करने व अस्पताल परिसर में दिन-रात नशाखोरियों के अड्डेबाजी पर अंकुश लगाने की मांग की है। हिन्दुस्थान समाचार/अजय

अन्य खबरें

No stories found.