स्वास्थ्य मंत्री का पीएमसीएच में भी नर्सों ने किया विरोध

स्वास्थ्य मंत्री का पीएमसीएच में भी नर्सों ने किया विरोध
स्वास्थ्य मंत्री का पीएमसीएच में भी नर्सों ने किया विरोध

पटना, 24 जुलाई (हि.स.)। कोरोना विस्फोट के बाद अस्पतालों का हाल लेने शुक्रवार को पीएमसीएच पहुंचे स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय का नर्सो ने जमकर विरोध किया। मंत्री कमरे में डॉक्टरों से अस्पताल की समस्याओं को लेकर मीटिंग कर रहे थे। इधर, बाहर में नर्सें मंत्री गो बैक का नारा लगा रही थीं ।नर्सों का कहना था कि पिछले छह माह से हम बिना छुट्टी के काम कर रहे हैं लेकिन, सरकार ने अभी तक वेतन नहीं दिया है। वेतन मांगने पर नौकरी से निकाल देने की धमकी दी जाती है। दरअसल, प्रदेश में कोरोना के संक्रमण की बद से बदतर स्थिति से जुड़े मामले सामने आने के बाद स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय कल पहली बार हाल जानने एनएमसीएच पहुंचे थे। वहां पर पीपीटी किट पहनकर उन्होंने मरीजों का भी हाल चाल पूछा था । दूसरे दिन शुक्रवार को वे बिहार के सबसे बड़े अस्पताल पीएमसीएच पहुंचे। यहां पर उन्होंने डॉक्टरों के साथ बैठक की और फिर उनको आवश्यक निर्देश भी दिया। सूत्रों का कहना है कि दूसरे विभाग के डॉक्टर की मदद नहीं करने पर मंत्री नाराज हुए। उन्होंने साफ कहा कि यह विपरीत समय है। इसमें मेरा और तेरा काम नहीं करना है। पूरी टीम की तरह इसमें लगना होगा। तभी हम विजय पा सकते हैं। जो ऐसा नहीं कर सकते हैं वे जा सकते हैं। बताते चलें कि यह मामला एनएमसीएच में भी मंत्री के सामने आया था। वहां पर मेडसिन विभाग के डॉक्टरों ने कहा था कि दूसरे विभाग के न तो कोई डॉक्टर और न ही पीजी स्टूडेंट ही हमारी मदद करते हैं। दबाव डालने पर वे कहते हैं कि हमको यह समझ में नहीं आता। इसपर मंत्री ने दूसरे विभाग के विभागाध्यक्ष को सहयोग करने को कहा था। इधर, मंत्री जब डॉक्टरों के साथ अपनी बैठक कर रहे थे, पीएमसीएच की नर्सो ने उनका विरोध किया। उन्होंने मंत्री के सामने कह दिया कि अगर हम लोगों की बात नहीं मानी गई तो हम हड़ताल पर चले जायेंगे। मंत्री का एनएमसीएच में भी वहां के कर्मचारियों ने विरोध किया था। हिन्दुस्थान समाचार /राजेश/विभाकर-hindusthansamachar.in