उफन रही बूढ़ी गंडक और कोसी, बागमती में ठहराव
उफन रही बूढ़ी गंडक और कोसी, बागमती में ठहराव
बिहार

उफन रही बूढ़ी गंडक और कोसी, बागमती में ठहराव

news

खगड़िया, 31 जुलाई (हि.स.)। खगड़िया जिले में कोसी और बूढ़ी गंडक नदी शुक्रवार को उफनती नजर आई जबकि बागमती नदी के जलस्तर में ठहराव देखा गया। गंगा नदी का जलस्तर कम होता जा रहा है। गंगा नदी खतरे के निशान से 0.67 मीटर नीचे बह रही है। गंगा नदी का जलस्तर 33.40 मीटर दर्ज किया गया। जबकि बूढ़ी गंडक नदी का जलस्तर 36 80 मीटर कोसी नदी का जलस्तर 35.87 मीटर और बागमती नदी का जलस्तर 38.30 मीटर दर्ज किया गया। बाढ़ का पानी जिले के सभी सात प्रखंडों को प्रभावित कर रहा है। अब तक जिले के 36 पंचायतों के पंचानवे गांव बाढ़ प्रभावित हैं। जिला अधिकारी ने बताया कि लगभग 81 हजार की आबादी बाढ़ प्रभावित है। जिले में एक राहत केंद्र चलाया जा रहा है जहां 231 लोग रह रहे हैं। जबकि सात सामुदायिक रसोई का संचालन किया जा रहा है जहा 7288 बाढ़ पीड़ित भोजन करते हैं। जिले के सभी तटबंध सुरक्षित हैं तथा बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल संख्या 1 और 2 के अधीन आने वाले बदला नगरपारा तटबंध, गोगरी नारायणपुर जीएन तटबंध सहित सभी जमींदारी बांध की सतत निगरानी विभागीय कर्मी कर रहे हैं। स्थानीय लोगों से किसी भी स्थान से सीपेज या पाइपिंग की खबर मिलते ही अभियंताओं का दल मौके पर पहुंचकर सुरक्षात्मक कार्य करा देता है। लोगों को आवागमन में कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। जिला प्रशासन ने 1065 बेघर लोगों को पॉलीथिन शीट उपलब्ध कराया है। डीएम ने बताया कि प्रभावित क्षेत्र में 5722 फूड पैकेट का वितरण भी किया गया है। मौसम विभाग की ओर से मध्यम से तेज वर्षा का अनुमान बताया गया है हालांकि पिछले वर्ष की तुलना में जुलाई महीने में 14.80 प्रतिशत अधिक वर्षा हो चुकी है। जिला प्रशासन ने तटबंधों के संदर्भ में किसी भी अफवाह पर ध्यान ना देने का अनुरोध किया है तथा बताया है कि आपदा प्रबंधन विभाग में नियंत्रण कक्ष की स्थापना की है जहां से वार्ड से संबंधित कोई भी जानकारी लिया जा सकता है। हिन्दुस्थान समाचार/ अजिताभ/चंदा-hindusthansamachar.in