लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराने का अफसरों  को जिलाधिकारी का निर्देश
लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराने का अफसरों को जिलाधिकारी का निर्देश
बिहार

लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराने का अफसरों को जिलाधिकारी का निर्देश

news

मोतिहारी 31 जुलाई(हि. स.)। पूर्वी चंपारण के जिलाधिकारी शीर्षत कपिल अशोक ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के माध्यम से एसडीओ, एसडीपीओ, सीओ बीडीओ को कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए लॉकडाउन को प्रभावी ढंग से सख्ती से अनुपालन कराने को कहा है। जिलाधिकारी ने जगह-जगह ड्रॉप गेट बनाकर दोपहिया और चारपहिया वाहनों की जांच का निर्देश दिया। जिलाधिकारी ने प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को आवश्यकता के अनुसार आकलन करते हुए रैपिड एंटीजन किट का अविलंब उठाव करने का निर्देश दिया। कहा कि रैपिड एंटीजन किट की सहायता से कोरोना की जांच प्रयोगशाला टेक्नीशियन, पारा मेडिकल कर्मी, एएनएम द्वारा किया जाना है। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर रैपिड एंटीजन किट से जांच केवल संक्रमित व्यक्तियों की होगी। अपने-अपने स्वास्थ्य संस्थान अंतर्गत चिन्हित कंटेनमेंट जोन के अति जोखिम युक्त समूह के लोगों की ही जांच की जानी है। संक्रमित व्यक्तियों की जांच के लिए चिन्हित करने एवं संपूर्ण प्रक्रिया के अनुश्रवण का निर्देश दिया गया। चिकित्सा प्रभारियों की होगी संक्रमितों को आइसोलेट करने की जिम्मेदारी— प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक प्रखंड सामुदायिक उत्प्रेरक की संयुक्त जिम्मेवारी होगी कि वे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र स्तर पर कोरोना9 की जांच रिपोर्ट से संबंधित प्रतिवेदन पोर्टल पर अपलोड करें। जांचोपरांत कोरोना पॉजिटिव पाए गए व्यक्तियों को होम आइसोलेशन या जिला में स्थापित आइसोलेशन सेंटर पर भेजने की संपूर्ण जवाबदेही प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी की होगी। यदि व्यक्ति को होम आइसोलेशन में रखा जाता है तो उस पॉजिटिव मरीज से शपथ पत्र भरवाने तथा उनके संबंधित अनुश्रवण की जिम्मेवारी स्वास्थ्य कर्मी की होगी। उस पर हमेशा निगरानी बनाए रखेंगे। घर के बाहर टहलते हुए पाए जाते हैं तो उनपर कार्रवाई होगी। आशा द्वारा प्रतिदिन होम आइसोलेशन में रहने वाले पॉजिटिव व्यक्तियों को दवा, किट वितरण तथा उसकी सलामती प्रतिवेदन भेजना होगा। कोविड केयर सेंटर, डीसीएससी की पूर्ण व्यवस्था को कार्यरत रखना। प्रतिदिन निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप जांच कराना आवश्यक है। इसमें किसी भी प्रकार की शिथिलता नहीं होनी चाहिए अन्यथा वैसे स्वास्थ्य कर्मी को चिन्हित कर कार्रवाई की जाएगी। डीएम ने सिविल सर्जन को कंटेनमेंट जोन में संक्रमित व्यक्तियों की पहचान कर उसका सेंपलिग कराने एवं अनुमंडल पदाधिकारी एवं प्रखंड विकास पदाधिकारी को अनुमंडल स्तर एवं ब्लॉक स्तर पर ऑक्सीजन युक्त बेड की आवश्यक व्यवस्था कर लेने का निर्देश दिया। फिजिकल डिस्टेंस का पालन कर मनाएं पर्व- त्योहार बकरीद, रक्षाबंधन, स्वतंत्रता दिवस को लेकर डीएम शीर्षत कपिल अशोक ने विधि व्यवस्था की समीक्षा की। डीएम ने कहा कि लॉकडाउन का पालन करते हुए फिजिकल डिस्टेंसिग मेंटेन करते हुए सारे पर्व त्योहार मनाए जाएंगे। सामूहिक रूप से नमाज अदा नहीं की जाएगी। जिलाधिकारी ने लॉकडाउन को सख्ती से पालन कराने के लिए युद्धस्तर पर मास्क नहीं पहनने वालों के विरुद्ध अभियान चलाने और दोपहिया व चारपहिया वाहन, जो अनावश्यक रूप से चल रहे हों, उन पर जुर्माना लगाने का निर्देश दिया। विधि व्यवस्था की समीक्षा के क्रम में पुलिस अधीक्षक नवीनचंद्र झा ने भी आवश्यक दिशा-निर्देश एसडीपीओ, थाना प्रभारी को दिया। इसके अलावा डीएम ने बाढ़ राहत कार्यों में तेजी लाने का निर्देश सभी पदाधिकारियों को दिया। हिन्दुस्थान समाचार / नवजीत कुमार/हिमांशु शेखर/विभाकर-hindusthansamachar.in