Deendayal Upadhyaya Grameen Kaushalya Yojana will provide employment to youth
Deendayal Upadhyaya Grameen Kaushalya Yojana will provide employment to youth
बिहार

दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना से युवाओं को मिलेगा रोजगार

news

गया, 14 जनवरी (हि.स.)। ग्रामीण विकास विभाग के तत्वावधान में राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन की ,"दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना" के अंतर्गत युवाओंं को विभिन्न क्षेत्रों में नि:शुल्क रोजगार उपलब्ध कराने के उद्देश्य से गुरुवार को समाहरणालय परिसर में 24 प्रचार रथ जिला पदाधिकारीअभिषेक सिंह ने हरी झंडी दिखाकर सभी प्रखंडों के लिए रवाना किया । यह प्रचार वाहन ज़िले के सभी प्रखंडों एवं पंचायतों में घूम-घूमकर दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना का प्रचार प्रसार करेगा जिससे युवा विभिन्न क्षेत्रों में नि:शुल्क प्रशिक्षण प्राप्त कर अपने रोज़गार के लिए जागरूक हो सकेंगे। डीएम अभिषेक सिंह ने बताया कि सभी प्रचार वाहनों में ऑडियो रिकॉर्डिंग, फ्लेक्स बोर्ड में महत्वपूर्ण जानकारी से लैस ये वाहन 03 दिनों के लिए चलाये जाएंंगे। ज़िला पदाधिकारी ने कहा कि प्रचार प्रसार से बेरोज़गार युवाओंं को काफी हद तक लाभ मिलेगा। ज़िले के युवा नि:शुल्क विभिन्न विधाओं में प्रशिक्षण प्राप्त कर अपना कौशल सम्बर्धन करेंगे तथा नियोजन प्राप्त करेंगे। उन्होंने निदेश दिया कि इन प्रचार वाहनों के माध्यम से सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में जाकर इस योजना के बारे में विस्तार से बताया जाय। डीपीएम जीविका मुकेश कुमार ने बताया कि ग्रामीण युवक/युवती जो बीपीएल या जीविका स्वयं सहायता परिवारों से होंं या जिन्हें मनरेगा के तहत कम से कम एक वर्ष में 35 दिनों का काम प्राप्त हो, वे इस योजना से लाभ प्राप्त करने केे लिए योग्य उम्मीदवार होंगे। इस योजना में अनुसूचित जाति/जनजाति और महिलाओं को प्राथमिकता दी जाएगी। प्रशिक्षण के लिए मुख्य ट्रेड के रूप में हॉस्पिटैलिटी असिस्टेंट, भवन निर्माण, आटोमोटिव रिपेयरिंग, सिक्योरिटी सर्विसेज, कंप्यूटर, इलेक्ट्रिकल, मोबाइल रिपेयरिंग, रेफ्रिजरेटर रिपेयरिंग, नर्सिंग असिस्टेंट, सेल्स मार्केटिंग वस्त्र एवं परिधान, सूचना व संचार प्रौद्योगिकी, बैंकिंग एवं लेखांकन, यात्रा एवं पर्यटन, कूरियर एवं लॉजिस्टिक, प्लंबिंग इत्यादि शामिल हैं। इसमे नि:शुल्क प्रशिक्षण, यूनिफॉर्म एवं पुस्तक की व्यवस्था, प्रशिक्षण के उपरांत न्यूनतम 70% युवाओं को रोजगार का अवसर, आवासीय एवं गैर आवासीय प्रशिक्षण केंद्र की सुविधा, प्रशिक्षित युवाओं को रोजगार के उपरांत अधिकतम 6 माह तक 1000 रुपया प्रतिमाह आर्थिक सहयोग, गैर आवासीय प्रशिक्षण की स्थिति में प्रतिदिन की उपस्थिति के हिसाब से 125 रुपया भोजन एवं यात्रा भत्ता तथा प्रशिक्षण के उपरांत एनसीवीटी/एसएससी का प्रमाण पत्र प्रशिक्षणार्थियों के लिए विशेष सुविधा दी जाएगी। ज़िलेे के सभी बेरोज़गार युवाओंं से जिलाधिकारी ने अपील की कि वे इस प्रचार वाहन के माध्यम से प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए संबंधित प्रखंड के जीविका कार्यालय में संपर्क स्थापित कर जानकारी प्राप्त कर सकतें हैं। इस अवसर पर डीपीएम जीविका मुकेश कुमार, प्रबंधक संचार, जीविका श्री दिनेश कुमार, प्रबंधक, रोज़गार, जीविका श्री ज्योति प्रकाश शामिल थे। हिन्दुस्थान समाचार/पंकज कुमार/विभाकर-hindusthansamachar.in