cpi-ml-staged-railway-line-in-bettiah
cpi-ml-staged-railway-line-in-bettiah
बिहार

बेतिया में भाकपा-माले ने रेलवे लाइन पर दिया धरना

news

बेतिया, 18 फरवरी (हि.स.)। राष्ट्व्यापी रेल चक्का जाम के तहत भाकपा-माले ने गुरुवार को बेतिया रेलवे स्टेशन पर प्रदर्शन कर रेलवे लाइन पर धरना दियाऔर दिल्ली जाने वाली शप्तक्रांति को कुछ समय के लिए डिटेन किया। पुलिस बल जबरन प्रदर्शनकारियों को कुछ समय के लिए अपने कस्टडी में डिटेल कर रखा , कृषि काला कानून को रद्द करने, न्यूनतम समर्थन मूल्य कि लिगल गारंटी देन की मांग पर लम्बे समय से चल रहें किसान आंदोलन के अगले चरण में संयुक्त किसान मोर्चा ने राष्ट्व्यापी रेल चक्का जाम का आह्वान किया था, भाकपा-माले नेता ने कहा कि मोदी सरकार तीनों कृषि काला कानून को रद्द करने, न्यूनतम समर्थन मूल्य कि लिगल गारंटी देन के बदले किसान आंदोलन में फुट डालने, मुकदमा दर्ज कर डर पैदा करने, दमन करने की नीति पर काम कर रहीं हैं। मुजफ्फरपुर में किसान संगठन जो तकरीबन 2 महीने से अनिश्चितकालीन धरने पर खुदीराम बोस के स्मारक पर बैठे हुए थे उन किसानों पर आरएसएस वालो ने हमला किया है तथा बैनर फाड़ दिया। देशभर में चल रहे किसान आंदोलन से बौखलाई भाजपा आर एस एस बजरंग दल ने दिल्ली से लेकर देश के अन्य कोनों में भी आंदोलन को दबा देने के लिए हमला कर रहा है। इंकलाबी नौजवान सभा (इनौस) जिला संयोजक फरहान रजा ने कहा कि दिल्ली पुलिस द्वारा की गई 'टूलकिट एफआईआर' दमन, दण्ड और लोकतंत्र की हत्या करने की मोदी सरकार की टूलकिट है. अपना पक्ष को रखना लोकतांत्रिक विरोध के मूलभूत तत्व होते हैं और इनको अपराध बता कर मोदी सरकार ने अपने तानाशाही चरित्र को उजागर कर दिया है। दिल्ली पुलिस बंगलूरु में पर्यावरण कार्यकर्ता दिशा रवि के घर में जबरन घुस कर और फिर बंगलूरु से दिल्ली लाकर खुलेआम कानून तोड़ा है और कानूनी व संवैधानिक अधिकारों का उल्लंघन किया है। अगर मोदी सरकार का गृह मंत्रालय एक महत्वहीन एफआईआर को हथियार बना कर भारत के किसी भी हिस्से से नागरिकों को गिरफ्तार कर सकता है तो निश्चित ही यह संघीय ढांचे और लोकतंत्र पर बहुत बड़ा हमला है। सभी वक्ताओं ने मांग करते हुये कहा कि दिशा रवि, निकिता जैकब और अन्य पर्यावरण आंदोलन के कार्यकार्ताओं पर लगाये गये मुकदमे तत्काल वापस लिये जायें और सभी गिरफ्तार लोगों को रिहा किया जाये।भाकपा-माले नेता योगेन्द्र यादव ने कहा कि मोदी सरकार किसानों- छात्रों एवं इन युवा पर्यावरण कार्यकर्ताओं को दुश्मन के रूप में देख रही है। हिन्दुस्थान समाचार / अमानुल हक/चंदा-hindusthansamachar.in