construction-of-service-path-will-soon-be-done-on-the-dam-of-tirhut-main-canal-in-west-champaran-at-a-cost-of-50695-crores
construction-of-service-path-will-soon-be-done-on-the-dam-of-tirhut-main-canal-in-west-champaran-at-a-cost-of-50695-crores
बिहार

पश्चिम चंपारण मे 506.95 करोड़ की लागत से तिरहुत मुख्य नहर के बांध पर सेवा पथ का शीघ्र होगा निर्माण

news

बेतिया, 20 फरवरी (हि.स.)। तिरहुत मुख्य नहर के 0 आर.डी. से 538 आर.डी. अर्थात 0 किलोमीटर से 164 किलोमीटर लम्बे बांध पर सेवा पथ का निर्माण किया जाना है। उक्त पथ की प्राक्कलित राशि 506.95 करोड़ है। इस पथ की चौड़ाई 3.7 मीटर (ब्लैक टाॅप) है। पथ के दोनों तरफ 1.5 मीटर फ्लैंक का निर्माण कराया जायेगा। बरसात से बांध/सड़क को क्षति से बचाने हेतु ड्रेनेज की व्यवस्था की गयी है। साथ ही लिंक पथों को जोड़ने हेतु प्रत्येक 02 किलोमीटर पर एक रैम्प (कुल-82 रैम्प) का निर्माण एवं प्रत्येक किलोमीटर पर प्लेटफाॅर्म का निर्माण किया जायेगा। सेवा पथ के निर्माण के लिए प्राक्कलन तैयार कर लिया गया है तथा स्वीकृति हेतु जल संसाधन विभाग, बिहार को भेजा गया है। तिरहुत मुख्य नहर के बांध पर सेवा पथ का निर्माण हो जाने के उपरांत पश्चिमी चम्पारण ही नहीं बल्कि पूर्वी चम्पारण के लोगों को भी इसका फायदा मिलेगा। पश्चिमी चम्पारण एवं पूर्वी चम्पारण के कुल-211 गांवों के लोग इस सेवा पथ का लाभ उठा सकेंगे। ज्ञातव्य हो कि उक्त बांध के आसपास के निवासियों को आवागमन में काफी कठिनाईयों का सामना करना पड़ता है, खासकर बरसात के दिनों में। सेवा पथ का निर्माण होने के फलस्वरूप इन्हें आवागमन की परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ेगा। विभिन्न कृषि उत्पादों सहित अन्य सामग्रियों की ढुलाई भी कम समय में आसानी से हो जाया करेगी। इसी परिप्रेक्ष्य में जिलाधिकारी, कुंदन कुमार की अध्यक्षता में एक महत्वपूर्ण बैठक सम्पन्न हुयी। इस अवसर पर अधिकारियों को निदेशित करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि पश्चिम चम्पारण जिले के विकास के लिए सरकार एवं जिला प्रशासन कृतसंकल्पित है। सभी अधिकारी पूरी संजीदगी एवं तत्परतापूर्वक लोगों की भलाई एवं कल्याण के लिए अपने कर्तव्यों एवं दायित्वों का निवर्हन करें। उन्होंने कहा कि तिरहुत मुख्य नहर के बांध पर सेवा पथ के निर्माण हेतु भेजा गया प्रस्ताव शीघ्र ही स्वीकृत होने की संभावना है। नहर के बांध पर कई स्थलों पर अतिक्रमण की खबर है। संबंधित अधिकारी बांध पर हुए अतिक्रमण को हटाने, झाड़-झंखाड़ की सफाई आदि की दिशा में अग्रतर कार्रवाई करना सुनिश्चित करेंगे। कार्यपालक अभियंता, तिरहुत नहर प्रमंडल को निदेश दिया गया कि 0 आर.डी. से लेकर 538 आर.डी. तक के बांध का भौतिक निरीक्षण स्वयं करेंगे तथा अद्यतन वस्तुस्थिति के संबंध में प्रतिवेदन उपलब्ध करायेंगे। हिंदुस्थान समाचार / अमानुल हक