कोरोना काल में मृत शिक्षाकर्मीयों के प्रति शोक संवेदना प्रकट करने के लिए शोक सभा आयोजित

कोरोना काल में मृत शिक्षाकर्मीयों के प्रति शोक संवेदना प्रकट करने के लिए शोक सभा आयोजित
condolence-meeting-organized-to-express-condolences-to-the-education-workers-who-died-during-the-corona-period

दरभंगा,09 जून (हि.स.)। राज्य सरकार के निर्देशानुसार बुधवार से ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय कार्यालय पचास प्रतिशत कार्यबल के साथ एहतियात बरतते हुए खुला।लेकिन पिछले दिनों कोरोना के ग्रास बने शिक्षक एवं शिक्षकेतर कर्मचारियों के कारण वातावरण गमगीन बना रहा। विज्ञान संकायाध्यक्ष प्रोफ़ेसर रतन कुमार चौधरी, अभिषद सदस्य डाॅ डी एन पासवान, विश्वविद्यालय के शिक्षकेतर कर्मी बेचन यादव , कुलपति कार्यालय के आदेशपाल सत्य नारायण प्रसाद, जी डी काॅलेज, बेगूसराय के डाॅ हेमचन्द्र झा,भी एस जे कालेज , राजनगर के प्रो विजय शंकर झा,सी एम कालेज ,दरभंगा के प्रो विजय कुमार झा एवं प्रो राजेन्द्र प्रसाद यादव ,विश्वविद्यालय भूगोल विभाग के डा हीरा लाल गुप्ता, यू पी कालेज की डा अरुणा कुमारी, मिल्लत काॅलेज, दरभंगा के प्रो एस एम ए एच नोमानी , मो नेमतुल्ला एवं शायदा खातून तथा एच पी एस कालेज, मधेपुर के राधाकांत चौधरी के असामयिक निधन पर प्रति कुलपति प्रो डाॅली सिन्हा की अध्यक्षता में शोकसभा आयोजित की गई ।इस सभा में कुलसचिव प्रो मुश्ताक अहमद सहित पदाधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे। शोक प्रस्ताव पारित कर कहा गया कि कोरोना महामारी से शिक्षकों एवं शिक्षकेतर कर्मचारियों के असामयिक निधन से विश्वविद्यालय परिवार अत्यंत दुखी है । ये सभी सेवा अवधि में चरित्रवान, समर्पित, इमानदार एवं कुशल व्यक्ति के रूप में जाने जाते थे । मृदुभाषी एवं सरल स्वभाव के कारण सराहनीय रहे।विश्वविद्यालय परिवार की यह शोक सभा इन लोगों के असामयिक निधन पर गहरी शोक संवेदना प्रकट करती है और ईश्वर से प्रार्थना करती है कि उनकी दिवंगत आत्मा को चिर शांति प्रदान करें तथा उनके शोक संतप्त परिवारों को यह असहनीय वेदना सहन करने की शक्ति प्रदान करें। शोक प्रस्ताव की एक एक प्रति शोक संतप्त परिवारों को भेजने का निर्णय भी लिया गया। हिन्दुस्थान समाचार/मनोज