central-government-ready-for-four-pronged-rise-of-sanskrit-language--dr-sadanand
central-government-ready-for-four-pronged-rise-of-sanskrit-language--dr-sadanand
बिहार

संस्कृत भाषा की चतुर्दिक उत्थान को केंद्र सरकार तत्पर- डा सदानन्द

news

मधुबनी,20 फरवरी (हि.स.)। जेएनबी आदर्श संस्कृत महाविद्यालय में शनिवार को संस्कृत भाषा ज्ञान व संवर्धन को कार्यक्रम आयोजित की गई। प्रधानाचार्य डॉ सदानंद झा की अध्यक्षता में आयोजित कार्यक्रम में काव्य प्रयोजनम् तथा तुलसीदास की काव्यगत रचनात्मक चमत्कार विषय पर व्याख्यान प्रस्तुत की गई। महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ सदानंद झा ने कहा कि संस्कृत भाषा की सार्वभौमिकता देश के प्रत्येक राज्य में वृहत रूप से स्थापित है।केन्द्र सरकार संस्कृत भाषा की चतुर्दिक विकास के लिए तत्पर है।संस्कृत भाषा ज्ञान अर्जित करने वाले छात्र- छात्राओं के लिए रोजगार की असीमित साधन सभी प्रान्तों में विद्यमान हैं। संस्कृत भाषा की सम्यक ज्ञान से छात्र - छात्राओं की भविष्य संवारने को राष्ट्रीय संस्कृत संस्थान तत्परता से काम कर रही है।आर्थिक उपार्जन को संस्कृत भाषा साहित्य का केंद्र सरकार द्वारा संरक्षण व संवर्धन के लिए उत्कृष्ट प्रयास चल रहे हैं। शनिवार को जगदीश नारायण ब्रह्मचर्याश्रम आदर्श संस्कृत महाविद्यालय लगमा में वाग्वर्धिनी परिषद् की बैठक की अध्यक्षता करते प्रधानाचार्य डा सदानन्द झा ने उपस्थित छात्र- छात्राओं व शिक्षकों को संस्कृत भाषा के प्रति जागरूक किया।जेएनबी आदर्श कालेज के सभागार में शनिवार को सम्पन्न इस कार्यक्रम में साहित्य, व्याकरण,वेद आदि विभागों शिक्षको ने अपना मंतव्य दिया।भाषण प्रतियोगिता में छात्र- छात्राओं ने हिस्सा लिया। वाग्वर्धिनी एवं प्रातिभा व्याख्यान वल्लरी के इस आयोजन में महाविद्यालय के सभी छात्र एवं शिक्षक उपस्थित थे। इस सभा का उद्देश्य छात्रों में संस्कृत भाषा के प्रति रुचि उत्पन्न करना एवं संस्कृत भाषा का संवर्धन है। इस अवसर पर महाविद्यालय के साहित्य विभागीय व्याख्याता डा राघव कुमार झा ने "काव्य प्रयोजनम्" विषय पर विस्तृत व्याख्यान प्रस्तुत किया।कार्यक्रम में तुलसीदास के काव्यगत रचनात्मक स्वरूप विषय पर डा संगीत कुमार झा ने वृहत चर्चा की। ।प्राचार्य डा सदानंद झा ने छात्रों को प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए प्रेरित करते हुए कार्यक्रम के आयोजन में सहयोग करने हेतु शिक्षकों छात्रों एवं कर्मचारियों के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया। वैदिक मंगलाचरण सागर कुमार झा तथा माधव कुमार झा एवं लौकिक मंगलाचरण दीपक कुमार झा ने किया।प्रतिभागी छात्र मुरारी कुमार ठाकुर,सागर कुमार झा वैकुण्ठ मिश्र आदि ने भाषण दिया।उपस्थित शिक्षकों मेें प्रो सोनी कुमारी,डा सुशील चौधरी, डा रमेश कुमार व कर्मी डा नागेन्द्र झा आदि थे। हिन्दुस्थान समाचार/लम्बोदर

AD
AD