business-affected-due-to-ban-on-kunauli-border-people-upset
business-affected-due-to-ban-on-kunauli-border-people-upset
बिहार

कुनौली सीमा पर प्रतिबंध से व्यापार प्रभावित, लोग परेशान

news

निर्मली, 23 फरवरी (हि.स.)। भारत-नेपाल सीमा का कुनौली बॉर्डर खुलने के बाद भी नेपाल सरकार से भारतीय वाहनों की आवाजाही की छूट नहीं मिलने से दोनों देशों के व्यापारियों का कारोबार प्रभावित हो रहा है। इतना ही नहीं शादी-विवाह जैसे अवसरों पर भी वाहनों के आवागमन पर रोक से लोगों को समस्याएं हो रही हैं। हालांकि, उम्मीद जताई जा रही है कि जल्द ही सब कुछ सामान्य हो जाएगा। उल्लेखनीय है कि नेपाली लोग बड़ी तादाद में रोजमर्रा की सामग्री खरीदने के लिए नजदीकी भारतीय बाजार कुनौली आते हैं। भारतीय बाजार में खाद्यान्न सामग्री, कपड़ा, मेडिसिन और इलेक्ट्रानिक्स का समान सस्ता मिल जाता है। इसी वजह से नेपाली लोग भारतीय बाजार ज्यादा पसंद करते हैं। लेकिन वाहनों की आवाजाही की सुविधा नेपाल के गृह मंत्रालय से नहीं मिलने से इंडो-नेपाल के लोग एक दूसरे के बाजार कम आते जाते हैं। क्या कहते हैं व्यापारी: व्यापार संघ के अध्यक्ष राधेश्याम गुप्ता कहते हैं कि इस वैश्विक महामारी में बंदी से कई दुकानदारों की अर्थव्यवस्था चरमरा गई है। दुकान घाटे में चल रहे हैं। जगदम्बा वस्त्रालय के सतीश गुप्ता कहते हैं कि वाहन पर रोक से नेपाल के ग्राहक पैदल चलकर आना नहीं चाहते हैं। मोबाइल व्यवसायी दीपक कुमार ने कहा कि नेपाली ग्राहकों पर ही कुनौली बाजार का मार्केट निर्भर करता हैं। किराना व्यवसायी राजीव कुमार के मुताबिक नेपाल के लोगों की आवाजाही कम होने से किराना व्यवसाय पर प्रतिकूल असर पर रहा है। कुनौली बाजार का व्यवसाय नेपाली नागरिकों की आवाजाही से जुड़ा हुआ है।हालांकि, व्यापारियों को उम्मीद है कि बहुत जल्द ही सब कुछ सामान्य हो जायेगा। नेपाल सप्तरी जिले के बेलही भंसार के कस्टम अधिकारी अभिषेक कुमार ने बताया कि अभी तक भारतीय वाहनों की कस्टम काटने की अनुमति विभाग से प्राप्त नहीं हुआ हैं। इसी वजह से भारतीय वाहनों के प्रवेश पर रोक है। नेपाल का कारोबार भी प्रभावित : नेपाल सीमा वाहनों की आवाजाही पर रोक रहने से न केवल कुनौली बाजार, बल्कि नेपाल के हनुमान नगर, राजविराज, रूपणी और आसपास के क्षेत्रों में कारोबार चौपट हो गया है। भारतीय सीमा से सटे सप्तरी जिले के राजविराज के नेत्र अस्पताल भारतीय लोगों पर आश्रित हैं। सबसे बड़ी दिक्कत नेपाल में दवा को ले देखी जा रही है। भारतीय डॉक्टरों से इलाज करा रहे नेपाल के लोगों को वहां जरूरी दवा नहीं मिल पा रही। दोनों देशों में बसे रिश्तेदार एक-दूसरे से मिल नहीं पा रहे। शादी-ब्याह में भी परेशानी आ रही है। कुनौली के कस्टम अधिकारी के के शरण ने बताया कि गृह मंत्रालय के निर्देश पर भारतीय क्षेत्र का कुनौली बॉर्डर खोल दिया गया है। नेपाली बैरियर बंद रहने से इसका कोई फायदा होता नहीं दिख रहा है। उम्मीद है जल्द ही ये समस्याएं दूर हो जाएंगी। हिन्दुस्थान समाचार /सुनील/चंद्र