awareness-necessary-for-prevention-of-arson-incidents-dm
awareness-necessary-for-prevention-of-arson-incidents-dm
बिहार

आगजनी की घटनाओं की रोकथाम के लिए जागरुकता आवश्यक: डीएम

news

छपरा, 03 अप्रैल (हि.स.)। जिलाधिकारी डाॅ नीलेश रामचन्द्र देवरे ने शनिवार को कहा कि गर्मी का मौसम प्रारंभ हो गयी है और आगजनी की घटनाएं हो रही है। इसकी रोक थाम एवं घटना घटित होने पर नियामानुसार प्रभावितों को सहायता प्रदान करने के लिए पूर्व तैयारियां अविलम्ब पूर्ण करें। उन्होंने जिले के सभी अनुमंडल पदाधिकारियों, भूमि सुधार उप समाहर्ता, अंचलाधिकारी एवं प्रखंड विकास पदाधिकारियों को निदेश दिया। अग्निकांड की घटनाओं की रोकथाम के लिए स्पष्ट निदेश दिया कि पूर्व वर्षों में घटित अग्निकांड की घटनाओं के अनुभव के आधार पर प्रखंडवार अग्नि संवेदनशील पंचायतों, गांवों को चिन्हित करें। वहाॅं अधिकतम जागरूकता अभियान चलाये। सुरक्षा उपायों का व्यापक प्रबंध करें। जागरूकता एवं क्षमता वर्द्धन कार्यक्रम चलाएं जिलाधिकारी ने कहा कि अग्नि प्रभावित तथा अधिनस्थ प्रखंडों के संवेदनशील पंचायतों, गाॅंवों की पहचान कर अग्निशाम सेवा के सहयोग से जागरूकता एवं क्षमता वर्द्धन कार्यक्रम कराना सुनिश्चित करें। जिलाधिकारी के द्वारा कहा गया कि ग्राम स्तर पर कार्यरत विभिन्न सरकारी, गैर सरकारी समूहो, कर्मियों यथा आंगनवाड़ी सेविका, टोला सेवक, पंचायत सदस्यों, जीविका, विकास मित्र, कृषि सलाहकार एवं अन्य स्वयं सहायता समूह कार्यकर्ताओं के माध्यम से अग्निशाम सेवा की सहायता से जागरूकता एवं क्षमता वर्द्धन कार्यक्रमों का संचालन करें। भोजन बनाने के बाद चूल्हे की आग पूरी तरह से बुझाएं जिलाधिकारी के द्वारा कहा गया कि जागरुकता कार्यक्रमों में हवा के झोकों के तेज होने के पहले ही खाना पकाकर चुल्हे की आग को पानी से पूरी तरह बुझा दें। सभी प्रखंड विकास पदाधिकारियों को भी यह आदेश दिया गया है कि अग्निकांड की घटना की स्थिति में संबंधित अंचल अधिकारी को सहायता कार्यों में अपेक्षित सहयोग प्रदान करेंगें। हिन्दुस्थान समाचार / गुड्डू