amrit-mahotsav-of-independence-90-km-long-padyatra-will-take-place-in-dandi-bihar
amrit-mahotsav-of-independence-90-km-long-padyatra-will-take-place-in-dandi-bihar
बिहार

आजादी का अमृत महोत्सव : बिहार के दांडी में निकलेगी 90 किलोमीटर लंबी पदयात्रा

news

बेगूसराय, 12 अप्रैल (हि.स.)। देशभर में 'आजादी का अमृत महोत्सव' धूमधाम से मनाया जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने साबरमती आश्रम से इसका शुभारंभ किया तो दांडी की इस यात्रा में गढ़पुरा नमक सत्याग्रह गौरव यात्रा समिति भी शामिल हुआ। अब गढ़पुरा नमक सत्याग्रह गौरव यात्रा समिति आजादी के अमृत महोत्सव वर्ष में मुंगेर से बेगूसराय के नमक सत्याग्रह स्थल गढ़पुरा तक की 90 किलोमीटर लंबी पदयात्रा निकाल रही है। समिति के कोषाध्यक्ष सुशील सिंघानिया ने सोमवार को बताया कि देश की अनूठी एवं अपने आप में इकलौती ऐतिहासिक और गौरवशाली पदयात्रा 'नमक सत्याग्रह गौरवयात्रा' का यह दसवां वर्ष है और देश आजादी का 75वां वर्ष अमृत उत्सव मना रहा है। प्रत्येक वर्ष आयोजित यह पदयात्रा इस बार भी 17 अप्रैल को श्रीकृष्ण सेवा सदन मुंगेर से शुरू होगी। कोरोना संक्रमण के मद्देनजर समिति ने इस वर्ष पदयात्रा का आयोजन सांकेतिक एवं संक्षिप्त रूप से करने का निर्णय लिया है। इस दौरान सरकार के द्वारा निर्धारित प्रोटोकॉल का पालन किया जायेगा। सोमवार को मारवाड़ी धर्मशाला गढ़पुरा में आयोजित बैठक में यात्रा से संबंधित विभिन्न मुद्दों पर विस्तार से चर्चा की गई। प्रधान सचिव मुकेश विक्रम ने बताया कि पूर्व की तरह 17 अप्रैल को मुंगेर से पदयात्रा प्रारंभ होगी। यह पदयात्रा गंगा नदी पार कर समस्तीपुर, पंचवीर, लखमिनियां, बलिया, सदानंदपुर, रहाटपुर, सफापुर, मीनापुर, बेगूसराय, रजौड़ा, खम्हार, मोहनपुर, मंझौल, गढ़खौली, हरसाईं पुल, रजौड़, मणिपुर, रक्सी होते हुए 21अप्रैल को नमक सत्याग्रह स्थल गढ़पुरा पहुंचेगी। देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बापू के ऐतिहासिक दांडी मार्च के 91वें वर्षगांठ पर साबरमती आश्रम से दांडी तक की 24 दिवसीय, 386 किलोमीटर लंबी पदयात्रा को झंडी दिखाया। इस पदयात्रा में एक से छह अप्रैल तक गढ़पुरा नमक सत्याग्रह गौरवयात्रा समिति के सदस्यों ने भी अपनी भागीदारी दी। इस पदयात्रा में गोवा, मध्यप्रदेश, सिक्किम के मुख्यमंत्री, कई केंद्रीय मंत्री, सांसद एवं विधायकों ने हिस्सा लिया लेकिन किसी भी राज्य से इस पदयात्रा में शामिल पहली और एकमात्र टोली बिहार के गढ़़पुरा की थी। सह संयोजक रामसेवक स्वामी यादव ने बताया कि अपने राष्ट्रनायकों के गौरवशाली इतिहास से प्रेरणा लेकर राष्ट्रनिर्माण में वर्तमान और आनेवाली पीढ़ियो की महती भूमिका सुनिश्चित करने के लिये नमक सत्याग्रह गौरवयात्रा का प्रतिवर्ष आयोजन किया जा रहा है। उम्मीद है कि दांडी के नवनिर्मित राष्ट्रीय नमक सत्याग्रह स्मारक से प्रेरणा लेकर राज्य सरकार आनेवाले दिनों में 'बिहार के दांडी' गढ़पुरा ऐतिहासिक नमक सत्याग्रह स्थल का निर्माण सुनिश्चित करेगी और उसे प्रेरणास्थल के रुप में विकसित करेगी। हिन्दुस्थान समाचार/सुरेन्द्र/चंदा