471-containment-zone-created-in-the-district
471-containment-zone-created-in-the-district
बिहार

जिले में बनाए गए 471 कन्टेनमेंट जोन

news

सुपौल, 28 अप्रैल (हि. स.)। कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार हो रही व्द्धि को देखते हुए जिला प्रशासन ने जिले में 471 कन्टेनमेंट जोन चिन्हित किया है। इसमें सुपौल प्रखंड में 31, किशनपुर प्रखंड में 20, सरायगढ़ में 38, पिपरा में 70, बसंतपुर में 50, राघोपुर में 88, प्रतापगंज में 19, त्रिवेणीगंज में 78, छातापुर में 62, निर्मली में 8 और मरौना प्रखंड में 7 कन्टेनमेंट जोन चिन्हित किए गए। जानकर बताते हैं कि जब किसी गली, कॉलोनी, इलाके या हाउसिंग सोसायटी में कोई व्यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित पाया जाता है तो उसे सील कर दिया जाता है। इन जगहों पर लोगों को आवाजाही की इजाजत नहीं होती और वहां पर कंटेनमेंट जोन बनाकर कड़े प्रतिबंध लागू किए जाते हैं। जिस इलाके का निर्धारण कंटेनमेंट जोन के तौर पर किया जाता है उसके प्रवेश और निकास स्थानों पर बैरिकेडिंग की जाती है और वहां केवल आवश्यक सेवाओं की अनुमति होती है। 25 लोगों की हो गई है मौत कोरोना वायरस की रफ्तार कम होती नहीं दिख रही है। इस वायरस ने गुरुवार को एक और की जान ले ली है। इस तरह सुपौल जिले में कोरोना से मरने वालों की संख्या बढ़कर 25 हो गई है। जानकारी के अनुसार जिले में एक्टिव केस 2700 के पार हो गई है जो चिता का विषय है। एक्टिव केस 2722 पर जा पहुंचा है। वहीं पिछले चौबीस घंटे में जिले में 423 नये मरीज मिले हैं। कोरोना मरीज के मिलने के मामले में फिलहाल सुपौल प्रखंड सबसे आगे है। 17 से 29 अप्रैल तक सुपौल प्रखंड में 994 मरीज मिले हैं। हिन्दुस्थान समाचार/ राजीव/चंदा