31-km-long-jam-on-nh-19-administration-and-nhi39s-hands-swollen
31-km-long-jam-on-nh-19-administration-and-nhi39s-hands-swollen
बिहार

एनएच-19 पर 31 किलोमीटर लगा लम्बा जाम, प्रशासन और एनएचआई के हाथ-पांव फूले

news

पटना/सासाराम, 24 जनवरी (हि.स.)। बिहार में सासाराम से गुजरने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग (एनएच) संख्या-19 (पुराना एनएच-2) पर रविवार 31 किलोमीटर लम्बा जाम लग गया ,जिसकी वजह से प्रशासन और राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचआई) के हाथ-पांव फूल गए। सासाराम टोल प्लाजा पर शुरू हुआ जाम पश्चिम में कुदरा से लेकर पूरब में डेहरी तक करीब 31 किलोमीटर के रास्ते में फ़ैल गया है। आसपास के लोगों का कहना है कि शनिवार की शाम से ही जाम लगना शुरू हो गया था जिसने रविवार को भयंकर रूप ले लिया है।जाम में एंबुलेंस भी फंसे हैं। एंबुलेंस में सवार मरीज भगवान भरोसे हैं। अन्य निजी वाहनों के सवारी भी अपने किस्मत को कोस रहे हैं। हकीकत यह भी है कि इस जाम से निजात पाने के लिए दूसरा कोई विकल्प भी वाहन चालकों के पास नहीं है। सिर्फ बाइक सवार ही किसी तरह निकल पा रहे हैं। सासाराम के जिलाधिकारी धर्मेंद्र कुमार ने जाम की इस समस्या से पल्ला झाड़ लिया है। उनका कहना है कि जिला प्रशासन का इस समस्या से कोई लेना देना नहीं है। यह सड़क राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचआई) के अधीन है। इस समस्या को हमेशा के लिए एनएचआई ही दूर सकता है। एनएचआई कर्मी व अधिकारी इस मसले पर बात करने को तैयार नहीं है। उनका कहना है कि समस्या को दूर किया जा रहा है। पर सच्चाई यह है कि समस्या दूर किए जाने के बजाय और बढ़ती ही जा रही है। स्थानीय लोगों के मुताबिक टोल प्लाजा पर टैक्स वसूली में प्रति गाड़ी कम से कम तीन मिनट का समय लगता है। इस बीच पीछे कतार में खड़ी गाड़ियों में आगे निकलने की होड़ लग जाती है, जो प्लाजा के पास जाम का कारण बनता है। यही जाम कभी बढ़ते-बढ़ते दोनों ओर विकराल रूप ले लेता है।आये दिन टोल कर्मियों और लोकल वाहन चालकों के बीच बहस होती है। इस वजह से प्लाजा पार होने में प्रति गाड़ी का समय बढ़ जाता है। ट्रैक्टर वालों से तो रोज ही प्लाजा कर्मियों की बहस होती रहती है। उल्लेखनीय है कि सासाराम से गुजरने वाला यह एनएच शेरशाह सूरी के बनवाए थे। इसे ऐतिहासिक ग्रैंड ट्रंक रोड को भी समेटे हुए है। देश की राजधानी दिल्ली से कोलकाता को जोड़ने वाला यह एनएच रास्ते में कई महत्वपूर्ण शहरों को जोड़ता है। दिल्ली से लेकर मथुरा, आगरा, कानपुर, प्रयागराज, वाराणसी, सासाराम, धनबाद के रास्ते यह सड़क पश्चिम बंगाल के बर्धमान तक जाती है। हिन्दुस्थान समाचार/गोविन्द-hindusthansamachar.in