सूर्यदेव को अर्ध्य देने से मिलती है अद्भुत शक्ति : आचार्य प्रभाकर
सूर्यदेव को अर्ध्य देने से मिलती है अद्भुत शक्ति : आचार्य प्रभाकर
बिहार

सूर्यदेव को अर्ध्य देने से मिलती है अद्भुत शक्ति : आचार्य प्रभाकर

news

सहरसा,21नवम्बर(हि.स.)। छठ पूजा के अवसर पर भगवान भास्कर के अस्ताचलगामी एवं उदीयगामी सूर्य को अर्ध्य दिया जाता है।वहीं सूर्य नमस्कार के साथ सूर्य को दिया अर्ध्य से अमोघ फल की प्राप्ति होती है। दशकों से छठ पूजा पर सूर्य नमस्कार कार्यक्रम बाबाजी लक्ष्मीनाथ योगपीठ के तत्वावधान में संस्थापक योगगुरु आचार्य प्रभाकर अपने सहयोगियों के साथ प्रत्येक वर्ष जिले के विभिन्न प्रखंडों में कोसी दियारा तक आयोजन करते हैं । जिसका शुभारम्भ मुख्यालय साधना स्थल-खजुरी , तत्पश्चात महिषी,बनगांव , पड़री , सिमरी बख्तियारपूर में किया गया । लगातार चार वर्षों से सूर्य नमस्कार कार्यक्रम खजुरी स्थित रमूना माय थान छठ घाट पर किया गया ।इस अवसर पर योग की विभिन्न मुद्राओं में पवनमुक्तासन,सूर्यनमस्कार, शवासन, प्राणायाम भ्रामरी, प्रणव मंत्र, शांति मंत्र के बाद साधकों को सूर्य नमस्कार का महत्व तथा उससे होने वाले फायदे के बारे में जानकारी दी गई ।योग गुरु साधक श्री प्रभाकर ने बताया कि संस्था द्वारा लगातार कोशिश हर साल किया जा रहा है ताकि अधिक से अधिक लोग सूर्यनमस्कार सीखकर भगवान भास्कर से तेज़, ओज, उर्जा प्राप्त कर सकें । उन्होंने कहा कि व्यायाम की तैयारी के रूप में एकाग्र एवं शांत अवस्था लाता है। आमाशय की अतिरिक्त चर्बी को हटाता है और पाचन को सुधारता है।कब्ज को हटाने में सहायक है।रीढ़ को लचीला बनाता है एवं रक्त संचार में तेजी लाता है।आमाशय के अंगों की मालिश कर कार्य प्रणाली को सुधारता है। पैरों की मांसपेशियों को शक्ति प्रदान करता है।भुजाओं एवं पैरों को मजबूत बनाता है।एक चक्र सूर्यनमस्कार से एक बार गंगा स्नान का फल प्राप्त होता है। वहीं, एक चक्र सूर्यनमस्कार से एक गाय दान देने के बराबर फल मिलता है । एक चक्र सूर्यनमस्कार से सम्पूर्ण चौरासी आसन का लाभ मिलता है साथ ही आध्यात्मिक लाभ मिलता भी मिलता है।उन्होंने बताया कि इस वर्ष योग के नेशनल विजेता जयभद्र मिश्र, सुभद्र मिश्र के सानिध्य में योगाभ्यास किया गया ।व्यवस्थापिका राजनंदिनी ने भी योग प्रशिक्षक की भूमिका का निर्वहन किया ।इस मौके पर साधक, नरेश झा,विभाष चन्द्र मिश्र, सन्टू मिश्र , विभूति मिश्र , फौजी मिथुन, कन्हैया , रंजीत मिश्र, संतोष पंण्डित शान्डिल्य , उमेश भगत , दीपू चौरसिया, सीताराम पासवान ने सराहनीय भूमिका निभाई। हिन्दुस्थान समाचार/अजय-hindusthansamachar.in