सुशील मोदी ने तेजस्वी पर लगाया तथ्य छुपाने का आरोप
सुशील मोदी ने तेजस्वी पर लगाया तथ्य छुपाने का आरोप
बिहार

सुशील मोदी ने तेजस्वी पर लगाया तथ्य छुपाने का आरोप

news

कहा, चुनाव आयोग से शिकायत करूंगा, छोडूंगा नहीं लालू प्रसाद भी अपने कर्मों की सजा भुगत रहे हैं पटना, 15 अक्टूबर (हि.स.) । बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने तेजस्वी यादव पर सनसनीखेज आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा कि तेजस्वी यादव ने अपने नामांकन पत्र में संपति के बारे में जानकारी छुपाई है। मोदी ने एलान किया कि हम तेजस्वी को छोड़ेंगे नहीं। उन्होंने कहा कि लालू प्रसाद अपने कर्मों की सजा भोग रहे हैं। तेजस्वी ने नामांकन में जो तथ्य छुपाये हैं, उसके खिलाफ वे चुनाव आयोग में शिकायत दर्ज करायेंगे। सुशील मोदी ने आरोप लगाते हुए कहा कि नामांकन में उन्होंने जिक्र किया है कि वर्ष 2005 में रघुनाथ झा ने तेजस्वी को दो मंजिला मकान गिफ्ट किया था लेकिन तेजस्वी ने जो जानकारी दी है, उसमें खरीदने का उल्लेख है। वहीं, पटना के चितकोहरा में कांति सिंह ने संपत्ति गिफ्ट की थी, उसे भी खरीदने की बात तेजस्वी यादव ने अपने नामांकन के दौरान बताई है। ऐसे में वे पूरे तौर पर झूठ बोल रहे हैं। इसके खिलाफ वे चुनाव आयोग से शिकायत दर्ज कराएंगे। सुशील मोदी ने आरोप लगाया कि तेजस्वी ने हलफनामें में 4 करोड़, 10 लाख का ऋण देने की बात की जानकारी दी है। लेकिन उन्होंने यह नहीं बताया है कि किस कम्पनी को कर्ज दिया है और ऋण देने के लिए पैसा कहां से आया? वर्ष 2015 के शपथपत्र में दिखाया है कि 1 करोड़, 7 लाख का लोन किसी भारतीय कम्पनी को दिया है। आखिर बिना किसी नौकरी, व्यवसाय के इतना पैसा कहां से आया कि किसी अन्य को 4 करोड़, 10 लाख का ऋण दे दिया। फिर 5 साल में 3 करोड़ की कहां से आमदनी हुई कि 4 करोड़, 10 लाख का ऋण बांट दिया गया। उन्होंने कहा कि स्व. रघुनाथ झा ने वर्ष 2005 में गोपालगंज में एनएच के पास दो मंजिला मकान तेजस्वी और तेजप्रताप को 15 वर्ष की आयु में गिफ्ट कर दिया था। कान्ति सिंह ने वर्ष 2005 में पटना के चितकोहरा में तीन मंजिला मकान गिफ्ट कर दिया था। लेकिन गोपालगंज के दो मंजिला मकान को केवल ग्राउंड फ्लोर को ही शपथपत्र में दिखाया गया है। जो सम्पत्ति गिफ्ट में प्राप्त हुई, उसे वर्ष 2005 में खरीदी हुई दिखाई जा रही है। मोदी ने सवाल उठाया और कहा कि आखिर 31 साल की उम्र में तेजस्वी यादव 52 एवं तेजप्रताप 28 से ज्यादा सम्पत्ति के मालिक कैसे बन गए? जब कोई पुश्तैनी सम्पत्ति नहीं थी, नौंवी तक मुश्किल से पढ़ाई कर पाए, क्रिकेट में भी विफल रहे न कोई नौकरी की, न व्यवसाय किया सुशील मोदी ने आरोप लगाया कि तेजस्वी ने हलफनामें में 4 करोड़ 10 लाख का ऋण देने की बात की जानकारी दी है। लेकिन उन्होंने यह नहीं बताया है कि किस कम्पनी को कर्ज दिया हैऔर ऋण देने के लिए पैसा कहां से आया? हिन्दुस्थान समाचार/राजीव रंजन/विभाकर-hindusthansamachar.in