सर्वशिक्षा अभियान से स्कूलों की संख्या में वृद्धि
सर्वशिक्षा अभियान से स्कूलों की संख्या में वृद्धि
बिहार

सर्वशिक्षा अभियान से स्कूलों की संख्या में वृद्धि

news

गया, 16 अक्टूबर (हि.स.) । दक्षिण बिहार केंद्रीय विश्वविद्यालय (सीयूएसबी) के शिक्षक-शिक्षा विभाग, शिक्षा पीठ द्वारा राष्ट्रीय शिक्षा निति, 2020 के आयामों पर चर्चा के उद्देश्य से आयोजित 15 दिवसीय व्यख्यान श्रृंखला में शुक्रवार को देश में स्कूलों की स्थिति एवं उनकी संख्या पर विचार विमर्श किया गया। जन संपर्क पदाधिकार मो. मुदस्सीर आलम ने बताया कि शिक्षा विभाग के सहायक प्राध्यापक ने ‘स्कूलों का संचालनः गुणवत्तापूर्णशिक्षा के लिए व्यहू-रचनाएं’ शीर्षक के अंतर्गत स्कूलों से जुड़े कई अहम बिंदुओं को साझा किया। डॉ. कुमार ने अपने बताया कि सर्वशिक्षा अभियान के कारण देश में राजकीय प्राथमिक स्कूलों तथा उच्चतर प्राथमिक स्कूलों की संख्या में काफी वृद्धि हुई। इसके साथ-साथ एकल शिक्षक स्कूलों की संख्या की बढ़ी है। उन्होंने स्पष्ट किया कि यूडाईस-2016-2017 की एक रिपोर्ट के अनुसार 28 प्रतिशत राजकीय प्राथमिक स्कूलों तथा 14.8 प्रतिशत उच्च स्तर प्राथमिक स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या का 30 से भी कम है। जो एक शिक्षाविदों के लिए चिंतनीय विषय रहा। वर्चुअल माध्यमों से शिक्षा पीठ के प्रो. रेखा अग्रवाल, डॉ. रवि कांत, डॉ. प्रज्ञा गुप्ता, डॉ. रवीन्द्र कुमार, डॉ. हसन, डॉ. कविता सिंह, डॉ. नृपेन्द्र वीर सिंह, डॉ. मनीष कुमार गौतम, डॉ. संदीप कुमार, डॉ. समरेश आदि शिक्षक इस सत्र में जुड़े रहे। हिन्दुस्थान समाचार/पंकज/चंदा-hindusthansamachar.in