शहरी इलाकों में बाढ़ में फंसा सैकड़ों परिवार, सरकारी व्यवस्था नदारद
शहरी इलाकों में बाढ़ में फंसा सैकड़ों परिवार, सरकारी व्यवस्था नदारद
बिहार

शहरी इलाकों में बाढ़ में फंसा सैकड़ों परिवार, सरकारी व्यवस्था नदारद

news

मुज़फ़्फ़रपुर, 30 जुलाई (हिं.सं.) ज़िले के शहरी इलाके अहियापुर के आसपास के इलाके में बूढ़ी गंडक नदी का रिंग बाँध टूटने से आमलोगों के साथ अब खास लोगों पर इसका असर दिखने लगा है । सभी बाढ़ पीड़ितों ने अपना आशियाना बाँध या सड़क किनारे लगाने लगे है । लोगों में बाढ़ के खौफ के साथ साथ विषैले साँप का भी खौफ पैदा हो गया है । बाढ़ का पानी मुख्य मार्गो के किनारे तक आ चुका है । वही दूसरी ओर जिले के अहियापुर थाना भी इसी बाढ़ के पानी से घिर चुका है । थाना में ड्यूटी करने वाले पदाधिकारियों और कर्मियों के साथ साथ वरीय अधिकारियों और फरियादीयों को भी थाना के अंदर जाने का सहारा बना है नाव । शेखपुर के बाढ़ पीड़ित रमेश कुमार,मुकेश सहनी, राजेंद्र सहनी से पूछे जाने पर कहा कि बाँध टूटे आज गुरुवार को तीसरा दिन हो गया है लेकिन अबतक कोई प्रशासन देखने तक नही आया है न ही कोई व्यवस्था मुहैया कराया गया है । लोगों ने खुद से केले के पेड़ और ट्यूब तथा अपना जुगाड़ू नाव बनाकर सामानों को सुरक्षित निकाल रहे है । इस इलाके में काफी जहरीले सांप भी है बाहर निकलने में काफी डर लगता है साथ ही कहा कि अभी भी दर्जनों परिवार अपने घरों के छत पर आशियाना बनाये हुए है । प्रशासन कब तक जगती है और मदद के लिए आगे आती है यह पता नही है । लेकिन आग्रह है कि कम से कम लोगो को सुरक्षित बाहर निकाला जाए और उनके खाने और रहने का इंतजाम किया जाए । जब शहर में है ऐसा हालत तो प्रशासन नही देख रही है गाँव मे कैसे लोग जिन्दगी काट रहे होंगे इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है । हिंदुस्थान समाचार/ मनोज/ चंदा-hindusthansamachar.in