लोग पानी का सदुपयोग करें, पर्यावरण की रक्षा करना भी हमारा दायित्व हैः नीतीश
लोग पानी का सदुपयोग करें, पर्यावरण की रक्षा करना भी हमारा दायित्व हैः नीतीश
बिहार

लोग पानी का सदुपयोग करें, पर्यावरण की रक्षा करना भी हमारा दायित्व हैः नीतीश

news

पीएम मोदी ने आवासन तथा शहरी कार्य मंत्रालय और जल शक्ति मंत्रालय की सात योजनाओं का किया उद्घाटन और शिलान्यास हर घर नल का जल निष्चय योजना का कार्य बिहार में 80 और ग्रामीण इलाकों में 81 फीसदी पूरे पटना, 15 सितम्बर (हि.स.)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आवासन तथा शहरी कार्य मंत्रालय और जल शक्ति मंत्रालय की सात योजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया। कार्यक्रम में पटना से राज्यपाल फागू चौहान और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी शामिल हुए। इस अवसर पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि हर घर नल का जल निष्चय योजना का कार्य बिहार में लगभग 80 फीसदी पूरा हो चुका है। ग्रामीण इलाकों में लगभग 81 प्रतिशत काम पूरे हो चुके हैं। शेष कार्य जल्द ही पूर्ण हो जाएंगे। शुद्ध पेयजल की आपूर्ति लोगों को पीने, खाना बनाने और अन्य जरूरी काम के लिए की जा रही है। स्वच्छ पानी का लोग सदुपयोग करें। इससे भू-जल स्तर मेन्टेन रहेगा। उन्होंने कहा कि मेरा आग्रह है कि पर्यावरण के दृष्टिकोण से भी इस बात पर ध्यान देना होगा कि लोग पानी का सदुपयोग करें, इसका किसी भी हालत में दुरूपयोग न करें। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद देते हुए अपने संबोधन में नीतीश ने कहा कि बिहार के हित में नमामि गंगे एवं अमृत मिशन के तहत इन योजनाओं के माध्यम से लोगों को शुद्ध पेयजल मिलेगा, यह बड़ी बात है। उन्होंने कहा कि मेरा जन्म गंगा नदी के किनारे बख्तियारपुर में हुआ है। जब मैं स्कूल में पढ़ता था तो रविवार के दिन गंगा नदी में स्नान करने जाता था और वहां से स्नान करने के बाद बाल्टी में गंगा जल भरकर पीने के लिए घर लाता था। उस समय गंगा नदी का पानी काफी शुद्ध था। आबादी बढ़ने के साथ ही अन्य कारणों से गंगा नदी का पानी स्वच्छ नहीं रहा। गंगा नदी सहित अन्य नदियों को फिर से स्वच्छ रखने के लिए काम किये जा रहे हैं। गंगा नदी के किनारे बसे शहरों में नमामि गंगे परियोजना के अंतर्गत नालों के पानी को सिवरेज ट्रीटमेंट के माध्यम से शुद्ध कर गंगा नदी में जाने दिया जाएगा। इससे गंगा का पानी स्वच्छ बना रहेगा। उन्होंने कहा कि पटना के नाले के पानी को भी एसटीपी के माध्यम से शुद्ध करने की योजना पर काम चल रहा है। जल संसाधन विभाग को इसके लिए तेजी से काम करने को कहा गया है। इस पानी का सदुपयोग खेती जैसे अन्य कार्यों के लिए किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बेउर और करमलीचक में 14 अक्टूबर 2017 को सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट का शिलान्यास किया था और तीन वर्षों से कम समय में उन्हीं के हाथों से इसका उद्घाटन भी हो रहा है। इसके लिए उनको बधाई। उन्होंने कहा कि अमृत योजना के अंतर्गत स्वच्छ पेयजल के लिए सीवान, छपरा में जलापूर्ति योजनाओं का आज उद्घाटन हुआ है। इससे वहां के नागरिकों को शुद्ध पेयजल मिल सकेगा। मुंगेर और जमालपुर में जलापूर्ति योजना का भी शिलान्यास हुआ है। इन योजनाओं के पूरे होने से वहां के लोगों को भी स्वच्छ पेयजल मिलेगा। पर्यावरण संबंधी कई काम किये जा रहे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण संबंधी कई कार्य किए जा रहे हैं। इसमें आपका भी सहयोग मिल रहा है। केंद्र की योजनाओं के क्रियान्वित होने से बिहार को भी लाभ हो रहा है। उन्होंने कहा कि मुजफ्फरपुर में नदी तट विकास योजना के अंतर्गत बुढ़ी गंडक के घाट का सौंदर्यीकरण किया जा रहा है। इससे नदी जल स्वच्छता के साथ-साथ पर्यटन के लिए भी उपयोगी होगा। बाहर से लोग यहां घाटों पर आकर सौंदर्यीकरण का आनंद उठा सकेंगे। उन्होंने कहा कि पटना के कई घाटों का सौंदर्यीकरण किया गया है। जब हम बिहार कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, पटना में पढ़ते थे, तो गंगा किनारे आकर अक्सर बैठा करते थे। यहां बैठना मुझे बहुत अच्छा लगता था। यहीं पर गांधी घाट है। जब यहां काम करने का मौका मिला तो गंगा किनारे के कई घाटों को ठीक कराया। मुख्यमंत्री ने कहा कि पर्यावरण के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए हाल ही में जल-जीवन-हरियाली अभियान के समर्थन में 5 करोड़ 16 लाख से अधिक लोगों ने 18 हजार किमी से अधिक लंबी मानव श्रृंखला बनाई थी। बिहार में जो काम हो रहा है उसके प्रति लोगों में जागृति है। नमामि गंगे परियोजना और अमृत मिशन के इन सात योजनाओं का शिलान्यास-उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नमामि गंगे परियोजना और अमृत मिशन के अंतर्गत बिहार में 7 परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया। इसके अंतर्गत पटना में 43 एमएलडी क्षमता के बेऊर सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट और 37 एमएलडी क्षमता के करमलीचक सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट, छपरा जलापूर्ति योजना (फेज-1) तथा सीवान जलापूर्ति योजना (फेज-1) का उद्घाटन कार्य शामिल है। इसके अलावा प्रधानमंत्री ने मुंगेर जलापूर्ति योजना, जमालपुर जलापूर्ति योजना तथा मुजफ्फरपुर नदी तट विकास योजना का शिलान्यास भी किया। हिन्दुस्थान समाचार/राजीव/विभाकर-hindusthansamachar.in