लोगों की जान की कीमत पर विधानसभा चुनाव  मंजूर नहींः सिविल सोसाइटी
लोगों की जान की कीमत पर विधानसभा चुनाव मंजूर नहींः सिविल सोसाइटी
बिहार

लोगों की जान की कीमत पर विधानसभा चुनाव मंजूर नहींः सिविल सोसाइटी

news

सिविल सोसाइट ने चुनाव आयोग को सौंपा ज्ञापन की कोविड संकट के मद्देनजर बिहार विधानसभा स्थागित करने की मांग पटना, 31 जुलाई (हि.स.)। बिहार में कोरोना के महाविस्फोट और बाढ़ को देखते हुए बिहार की सिविल सोसाइटी ने स्थिति सामान्य होने तक बिहार विधानसभा का चुनाव स्थगित करने की मांग की। शुक्रवार को इससे संबंधित ज्ञापन पर्यावरणविद व सामाजिक कार्यकर्ता रंजीव कुमार ने चुनाव आयोग को जाकर सौंपा। चुनाव आयोग को लिखे पत्र में मुख्य रूप से पटना विश्वविद्यालय के इतिहास विभाग की पूर्व अध्य्क्ष प्रो. डेज़ी नारायण, एएन सिन्हा इंस्टीट्यूट के पूर्व निदेशक डीएम दिवाकर, प्रख्यात शिक्षाविद ग़ालिब, किसान नेता राजाराम सिंह, पत्रकार प्रणव कुमार चौधरी, पुष्पराज, विद्यार्थी विकास सहित कई प्रख्यात शिक्षकों, पत्रकारों, रंगकर्मियों, सामाजिक कार्यकर्ताओं के हस्ताक्षर हैं। सिविल सोसाइटी ने स्पष्ट रूप से कहा कि बिहार में अभी लोगों की जिंदगी की हिफाजत का सवाल नम्बर एक पर है, लोगों की जान की कीमत पर हमें चुनाव मंजूर नहीं। साथ ही यह भी कहा कि चुनाव का वर्चुअल तरीका बड़ी आबादी को मतदान के अधिकार से ही वंचित कर देगा तथा वह सही अर्थों में जनमत का प्रतिनिधित्व नहीं करेगा। हिन्दुस्थान समाचार/राजीव/विभाकर-hindusthansamachar.in