मधुबनी  में हिन्दी दिवस की धूम, हुए कई कार्यक्रम
मधुबनी में हिन्दी दिवस की धूम, हुए कई कार्यक्रम
बिहार

मधुबनी में हिन्दी दिवस की धूम, हुए कई कार्यक्रम

news

मधुबनी,14 सितम्बर( हि.स.) ।हिन्दी दिवस के अवसर पर सोमवार को जिला मुख्यालय मधुबनी में कई कार्यक्रम आयोजित किए गए । शब्दों के लिए अटकिए नहीं, शैली के लिए रुकिए नहीं, हिंदी हम सब की भाषा है ।ऐसे नारों के साथ हिंदी कार्यक्रम का समापन किया गया । जिला प्रशासन की ओर से हिंदी दिवस कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें कई विशिष्ट वक्ताओं ने हिंदी को राष्ट्रभाषा बताया तथा अपने उद्गार व्यक्त किए। इधर कई स्वयंसेवी संस्थानों ने भी यहाँ हिंदी दिवस कार्यक्रम का आयोजन किया ।हिंदी को आमजन की भाषा बताते हुए प्रो अरविंद सिंह झा ने बताया कि हिंदी में शब्द शैली सागर के समान भरे पड़े हैं। हिंदी ही एक ऐसी सहज भाषा है। उत्तर से लेकर दक्षिण तक पसरी हुई है । नवारंभ प्रकाशन के संयोजक अजीत आजाद के संरक्षण में आयोजित हिंदी दिवस कार्यक्रम में बताया गया कि हिंदी जन जन की भाषा है ।हिंदी हैं हम वतन है, हिंदुस्तान हमारा 'का नारा आज बलवती हो रहा है। यहां पर अजीत आजाद ने कहा की नवारंभ प्रकाशन से वर्ष में लगभग सौ से ऊपर हिंदी कथा, कविता व समालोचना की पुस्तकें प्रकाशित की गई हैं । हिंदी दिवस के अवसर पर महाविद्यालयों में भी हिंदी दिवस का आयोजन किया गया। जे एन कालेज के प्राचार्य डा दमन कुमार झा ने बताया कि हिंदी जन-जन की भाषा बन चुकी है। इसमें शब्द विन्यास का अद्भुत समावेश व्याप्त है। आर के कॉलेज के पूर्व प्राध्यापक डा प्रकाश नायक ने कहा कि हिंदी की विशिष्ट पुस्तकों के अध्ययन से स्वतः शास्त्रीय ज्ञान प्राप्त होते हैं।वेद, महाभारत ,रामायण जैसी विशेष पुस्तकों का रूपांतरण हिंदी भाषा में हो चुका है। इसलिए शास्त्रीय ज्ञान प्राप्त करने के लिए हिंदी अपने आप में परिपूर्ण है। अंग्रेजी की भी कई पुस्तकें हिंदी में अनूदित हो चुकी हैं । हिंदी का भंडार भरने में साहित्यकारों और लेखकों की अप्रतिम योगदान है। हिन्दुस्तान समाचार/लंबोदर झा /विभाकर-hindusthansamachar.in