बिहार में विकास तो हुआ है, 20 के बाद करूंगा  राजनीतिक बातः पशुपति कुमार पारस
बिहार में विकास तो हुआ है, 20 के बाद करूंगा राजनीतिक बातः पशुपति कुमार पारस
बिहार

बिहार में विकास तो हुआ है, 20 के बाद करूंगा राजनीतिक बातः पशुपति कुमार पारस

news

रामविलास के भाई पशुपति कुमार पारस ने केंद्र और राज्य सरकार से की मांग रामविलास पासवान को भारत रत्न के लिए केंद्र को प्रस्ताव भेजें नीतीश 12 जनपथ को रामविलास पासवान के नाम पर राष्ट्रीय स्मारक घोषित किया जाये पटना, 16 अक्टूबर (हि.स.)। लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) केंद्र में तो नरेंद्र मोदी सरकार के साथ है, लेकिन बिहार एनडीए से अलग होकर अकेले चुनाव लड़ रही है। लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर भले ही लगातार हमलावर हैंं, लेकिन उनके चाचा व सांसद पशुपति कुमार पारस का मानना है कि बिहार में विकास तो हुआ है। शुक्रवार को उन्होंने कहा कि कि मेरी नीतीश कुमार से कोई राजनीतिक दुर्भावना नहीं है। वे बड़े भाई हैं। कुछ विशेष परिस्थिति थी, उसके बारे में मैं 20 तारीख के बाद राजनीतिक बातें करूंगा। उल्लेखनीय है कि रामविलास पासवान का श्राद्धकर्म 20 अक्टूबर को खत्म हो रहा है। पारस ने कहा कि नीतीश कुमार के मंत्रिमंडल में करीब पौने दो साल काम करने का मौका मिला था। बहुत अच्छा अनुभव है। वे हमेशा विकास की बात करते हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से हमारी दो डिमांड हैं। पहली रामविलास पासवान को भारत रत्न देने के लिए नीतीश केन्द्र सरकार को प्रस्ताव भेजें और दूसरी 12 जनपथ को रामविलास पासवान के नाम पर राष्ट्रीय स्मारक घोषित किया जाए। पारस ने कहा कि रामविलास जी पिता तुल्य बड़े भाई थे। वे हमारे आदर्श थे। अयोध्या के रामचंद्र व लक्ष्मण जी से भी ज्यादा प्यार हमारे तीनों भाई में था। हिन्दुस्थान समाचार/राजीव/विभाकर-hindusthansamachar.in