बड़े महलों में जाकर सिमट गई है सत्ता की सियासत : संजय गौतम
बड़े महलों में जाकर सिमट गई है सत्ता की सियासत : संजय गौतम
बिहार

बड़े महलों में जाकर सिमट गई है सत्ता की सियासत : संजय गौतम

news

बड़े महलों में जाकर सिमट गई है सत्ता की सियासत : संजय गौतम निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में बेगूसराय विधानसभा क्षेत्र से गौतम ने किया नामांकन बेगूसराय, 14 अक्टूबर (हि.स.)। विद्यार्थी परिषद के बैनर तले राजनीतिक जीवन की शुरुआत कर भाजयुमो और भाजपा की 30 साल से अधिक सेवा करने वाले संजय गौतम ने बुधवार को निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में बेगूसराय विधानसभा क्षेत्र से नामांकन का पर्चा दाखिल किया। अपने समर्थकों के साथ नामांकन दाखिल करने पहुंचे संजय गौतम ने कहा कि शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार, कृषि और सड़क की हालत बदहाल है। विधायक व्यवसाय कर रहे हैं। सत्ता की सियासत बड़े महलों में जाकर राजा और रानियों के दरवाजे पर सिमट कर रह गई है। भाजपा में आते ही लोग ईमानदार हो जाते हैं। दल टिकट बेच लेते हैं, दूसरे दल से आने वाले को टिकट दे देते हैं। हम बिहार के लाखों कार्यकर्ताओं की जमीर की लड़ाई लड़ रहे हैं। गरीब का बच्चा लोकतंत्र को जब झोपड़ी में ले जायेगा तो लोकतंत्र ईमानदारी से काम करेगा। हमारा मुख्य मुद्दा महिलाओं को सुरक्षा, कृषि रोड मैप, बदहाल सड़कें, गुणवत्तापूर्ण शिक्षा और स्वास्थ्य व्यवस्था है। हिन्दुस्थान समाचार/सुरेन्द्र/हिमांशु शेखर/विभाकर-hindusthansamachar.in