प्रधानमंत्री ने बरौनी डेयरी के सेक्स सॉरटेड सीमेन परियोजना का किया शुभारंभ
प्रधानमंत्री ने बरौनी डेयरी के सेक्स सॉरटेड सीमेन परियोजना का किया शुभारंभ
बिहार

प्रधानमंत्री ने बरौनी डेयरी के सेक्स सॉरटेड सीमेन परियोजना का किया शुभारंभ

news

बेगूसराय, 10 सितम्बर (हि.स.)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा पशुपालकों के आर्थिक समृद्धि के लिए कृत्रिम गर्भाधान की नई तकनीक सेक्स सॉरटेड सीमेन परियोजना का उद्घाटन करते ही गुरुवार को बरौनी डेयरी से जुड़े चार जिलों के किसान खुशी से झूम उठे। प्रधानमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से दिल्ली से राष्ट्रीय गोकुल मिशन की इस महत्वाकांक्षी योजना का शुभारंभ किया। इस मौके पर बरौनी डेयरी में आयोजित कार्यक्रम में बेगूसराय के प्रभारी मंत्री विजय कुमार सिन्हा, डीएम अरविन्द कुमार वर्मा, विधान पार्षद रजनीश कुमार, जिला परिषद अध्यक्ष रवीन्द्र चौधरी, मेयर उपेंद्र प्रसाद सिंह, तेघड़ा विधायक वीरेंद्र कुमार और बरौनी डेयरी के अध्यक्ष विजय शंकर सिंह मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालक प्रबंध निदेशक सुनील रंजन मिश्रा ने किया। गायों की नस्ल सुधार के लिए शुरूकी गयी इस अत्याधुनिक नस्ल सुधार योजना के प्रथम चरण में 20 हजार डोज सेक्स सॉरटेड सीमेन बरौनी डेयरी को उपलब्ध करवाया गया है जो कि बेगूसराय, खगड़िया, लखीसराय और पटना जिला के बाढ़ अनुमंडल के पशुओं को दिया जायेगा। सामान्यतया गर्भाधान कराए जाने पर 50 प्रतिशत मादा व 50 प्रतिशत नर बच्चा पैदा होने की संभावना रहती है। लेकिन इस नई तकनीक के सीमेन से 90 प्रतिशत मादा बच्चे पैदा होंगे। इससे किसानों के पशुपालन खर्च में लागत कम होगी और आय में अप्रत्याशित वृद्धि होगी। मादा बच्चे पैदा होने से दूध उत्पादन और देसी गायों के संख्या में वृद्धि होगी। इस मौके पर बेगूसराय के सांसद और केंद्रीय पशुपालन डेयरी एवं मत्स्य पालन मंत्री गिरिराज सिंह ने योजना की विस्तृत जानकारी दी। वहीं, प्रधानमंत्री ने भी अपने संबोधन में इसे किसानों पर आत्मनिर्भर होने का एक आमूलचूक लक्ष्य बताया है। कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करने के उद्देश्य इस बड़ी परियोजना के शुभारंभ के मौके पर डेयरी में सिर्फ सेलेक्टेड किसानों को बुलाया गया था। लेकिन डेयरी से जुड़ी तमाम समितियों ने लाइव प्रसारण की व्यवस्था की थी। हिन्दुस्थान समाचार/सुरेन्द्र/हिमांशु शेखर/विभाकर-hindusthansamachar.in