पुल के  ठेकेदार को छोड़ स्थानीय लोगों व जन प्रतिनिधियों पर ठोंक दिए तीन मुकदमे
पुल के ठेकेदार को छोड़ स्थानीय लोगों व जन प्रतिनिधियों पर ठोंक दिए तीन मुकदमे
बिहार

पुल के ठेकेदार को छोड़ स्थानीय लोगों व जन प्रतिनिधियों पर ठोंक दिए तीन मुकदमे

news

पुल निगम ने भी अज्ञात लोगों के खिलाफ दर्ज कराई प्राथमिकी पटना, 17 जुलाई (हि.स.)। गोपालगंज में सत्तरघाट पुल का अप्रोच रोड ध्वस्त होने के बाद फजीहत झेल रही बिहार सरकार ने स्थानीय लोगों पर ही अपनी खीज निकाली है। रोड बनाने वाला ठेकेदार तो सलामत है, लेकिन सरकार ने स्थानीय लोगों और जनप्रतिनिधियों पर तीन मुकदमे ठोंक दिये हैं। पुलिस स्थनीय जनप्रतिनिधियों और लोगों को पकड़ने के लिए छापेमारी करने में जुट गई है। गोपालगंज में सत्तरघाट पुल का अप्रोच रोड टूटने के मामले में बैकुंठपुर थाने में तीन अलग-अलग एफआईआर दर्ज करायी गयी है। पहली प्राथमिकी में वार्ड नंबर-31 के पार्षद विजय बहादुर यादव, स्थानीय मुखिया संजय राय समेत दो दर्जन से ज्यादा लोगों को नामजद किया गया है। एफआईआर दर्ज कराने वाले सरकार के सर्किल अफसर (सीओ) पंकज कुमार ने कहा है कि इन लोगों ने लॉकडाउन का उल्लंघन किया है। उन पर आरोप है कि लॉकडाउन के बावजूद गुरुवार को सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया गया और मुख्यमंत्री, उप मुख्यमंत्री का पुतला फूंका था। सत्तरघाट पुल के अप्रोच रोड ध्वस्त होने के मामले में ठेकेदार पर ही सबसे ज्यादा सवाल उठ रहे हैं लेकिन रोड के ठेकेदार ने स्थानीय लोगों पर अपनी ओर से एक मुकदमा दर्ज करा दिया है। रोड के ठेकेदार उदय सिंह ने स्थानीय मुखिया संजय राय के खिलाफ केस दर्ज कराया है। ठेकेदार ने आरोप लगाया है कि स्थानीय मुखिया संजय राय ने काम में बाधा पहुंचायी है। इन दो मुकदमों के अलावा बिहार राज्य पुल निर्माण निगम की तरफ से भी अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया है। निगम की ओर से बैकुंठपुर थाने में दर्ज करायी गयी प्राथमिकी में कहा गया है कि कुछ स्थानीय लोग सरकारी काम में बाधा पहुंचा रहे हैं। लिहाजा पुलिस उनके खिलाफ कार्रवाई करे। गौरतलब है कि गोपालगंज के बैकुंठपुर में पिछले महीने ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के हाथों सत्तरघाट पुल का उद्घाटन हुआ था। लेकिन उद्घाटन के 29वें दिन ही पुल का अप्रोच रोड को ध्वस्त हो गया। पुल के अप्रोच रोड पर गंडक नदी के पानी का थोडा सा दबाव बढ़ा और वह रेत की दीवार की तरह ध्वस्त हो गया। इस पुल के अप्रोच रोड के ढह जाने से छपरा, सीवान के लोगों का पूर्वी चंपारण और मुजफ्फरपुर से सीधा संपर्क टूट गया है। अब लोगों को 35 से 40 किलोमीटर अधिक चक्कर लगाने पड़ रहे हैं। हिन्दुस्थान समाचार/राजीव रंजन /विभाकर-hindusthansamachar.in