नियोजित शिक्षकों के भविष्य के साथ खिलवाड़, बिहार बेरोजगारी में नंबर वन क्यों?- तेजस्वी
नियोजित शिक्षकों के भविष्य के साथ खिलवाड़, बिहार बेरोजगारी में नंबर वन क्यों?- तेजस्वी
बिहार

नियोजित शिक्षकों के भविष्य के साथ खिलवाड़, बिहार बेरोजगारी में नंबर वन क्यों?- तेजस्वी

news

पटना, 7 सितम्बर(हि स)। बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने सोमवार को नियोजित शिक्षकों को नियमित करने के मुद्दे पर कहा है कि उन लोगों के भविष्य के साथ कहीं ना कहीं से खिलवाड़ किया जा रहा है। समान काम समान वेतन की मांग को क्यों नहीं माना गया। लालू जी ने बिहार में सात-सात विश्वविद्यालयों की स्थापना की। यह बतायें कि इनके राज में कितने विश्वविद्यालय की स्थापना की गई। शिक्षकों के नियोजन में व्यापक भ्रष्टाचार और फर्जीवाड़ा क्यों हुआ। नियुक्ति से 10 जुड़े दस्तावेज क्यों गायब हैं। किसने गायब किया है। राज्य में एक लाख की आबादी पर सिर्फ 77 पुलिसकर्मी हैं। जूनियर इंजीनियर के 66% पद क्यों खाली है। साल में एक भी मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल का निर्माण नहीं किया गया है। इलाज के लिए आज भी लोग बाहर जा रहे हैं। लोग रोजगार के लिए पलायन कर रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग में स्वीकृत पदों के मुकाबले तीन चौथाई पद खाली हैं। वहीँ उन्होंने कहा की नीति आयोग के सूचकांकों पर साल दर साल बिहार क्यों पिछड़ते जा रहा है अब तक 58 घोटाले हुए हैं। सृजन घोटाले में अपनी ही पार्टी के नेताओं पर आपने क्यों कार्रवाई नहीं की, भ्रष्ट नौकरशाहों पर कार्रवाई के बजाए उन्हें सेवा निवृति के बाद भी सेवा विस्तार किया जाना यह कैसा न्याय है। हिन्दुस्थान समाचार/मुरली/चंदा-hindusthansamachar.in