नालंदा में बिकेंगी आनलाइन सब्जियां,होगी बिचौलियों की छुट्टी
नालंदा में बिकेंगी आनलाइन सब्जियां,होगी बिचौलियों की छुट्टी
बिहार

नालंदा में बिकेंगी आनलाइन सब्जियां,होगी बिचौलियों की छुट्टी

news

बिहारशरीफ, 2अगस्त (हि.स.)। नालंदा के किसान बहुत जल्द ऑनलाइन सब्जी बेचेंगे। हर प्रखंड में आधुनिक सुविधाओं से लैस उनकी ‘अपनी मंडी’ होगी। उत्पाद की कीमत खुद तय करेंगे। बिचौलियों की छुट्टी होगी। किसानों की आर्थिक समृद्धि के लिए सहकारिता विभाग के अधीन बना वेजफेड नालंदा जिले के सभी 20 प्रखंडों में प्राथमिक सब्जी उत्पादक सहकारी समिति (पीवीसीएस) बना चुका है। इन समितियों से 1025 सब्जी उत्पादकों को जोड़ा गया है। योजना के तहत सहकारी समितियों को इलेक्ट्रॉनिक नेशनल एग्रीकल्चर मार्केटिंग (इनाम) से भी जोड़ा जाएगा। इनाम से जुड़ जाने के बाद किसान देशभर में ऑनलाइन सब्जी बेच सकेंगे। उनकी आमदनी बढ़ेगी। हालांकि, इनाम से जोड़ने में कुछ वक्त लग सकता है। लेकिन, राज्य के अंदर खरीद-बिक्री की व्यवस्था जल्द ही बहाल हो जाएगी। नालंदा जिले के 20 प्रखंडों में से 6 में अपनी मंडी बनाने के लिए जमीन मिल गयी है। शेष प्रखंडों में जमीन की खोज चल रही है। जमीन समितियों को लीज पर लेना है। मंडी निर्माण का खर्च वेजफेड उठाएगा। मंडी के लिए नालंदा जिले के तीन-चार प्रखंडों में जमीन देखी गयी है लेकिन, चयन नहीं हो सका है। जमीन वैसी जगह पर होनी चाहिए, जहां वाहनों के आवागमन की सुविधा हो। किसान आसानी से वहां तक पहुंच सकें। मुख्य बातें यह है यह मंडी की 10 हजार वर्गफीट में फैला होगा अपनी मंडी का परिसर 08 दुकानें बनेंगी खुदरा सब्जी बेचने के लिए 06 प्रखंडों में मंडी बनाने को मिल गयी है जमीन 14 प्रखंडों में जमीन चयन की प्रक्रिया चल रही 04 हजार हेक्टेयर में नालंदा में होती है सब्जी की खेती 20 प्रखंडों में बनी हैं प्राथमिक सब्जी उत्पादक सहकारी समिति 10 सौ 25 सब्जी उत्पादक जुड़े हैं सहकारी समितियों से मंडी परिसर में सब्जियों की छंटनी, ग्रेडिंग और पैकेजिंग की पूरी व्यवस्था होगी। इतना ही नहीं सब्जियां खराब न हों इसके लिए दस टन क्षमता का मल्टी चैंबर कोल्ड स्टोरेज भी बनेगा। परिसर में ही आठ दुकानें बनायी जाएंगी। इसे छोटे से बाजार का रूप दिया जाएगा। यहां स्थानीय लोग खुदरा सब्जी खरीद सकेंगे। इतना ही नहीं किसानों को बीज, खाद और कीटनाशी दवाओं के अलावा सभी प्रकार की सुविधाएं भी मुहैया करायी जाएंगी।नयी व्यवस्था जिन प्रखंडों में होगी, वहां के किसानों के लिए बाजार की समस्या दूर हो जाएगी। साथ ही आसपास के लोगों को भी सस्ती और ताजी सब्जियां मिलेंगी। ऑनलाइन सब्जी बेचने की सुविधा मिलने से किसानों को अपने उत्पाद की उचित कीमत मिलेगी। कोल्ड चैंबर बन जाने से सब्जियों के खराब होने का डर नहीं रहेगा।जिन प्रखंडों में जमीन मिल चुकी है, वहां जल्द ही वेजफेड के माध्यम से अपनी मंडी बनाने का काम शुरू होगा।इस संबंध में जिला सहकारिता पदाधिकारी सत्येन्द्र कुमार ने बताया कि अन्य प्रखंडों में जमीन की तलाश की जा रही है। यह योजना किसानों के लिए काफी फायदेमंद है। इससे किसानों को उत्पाद की उचित कीमत मिल सकेगी। हिन्दुस्थान समाचार/प्रमोद पाण्डेय/विभाकर-hindusthansamachar.in