देश की आंतरिक सुरक्षा में सीआरपीएफ की अहम भूमिका
देश की आंतरिक सुरक्षा में सीआरपीएफ की अहम भूमिका
बिहार

देश की आंतरिक सुरक्षा में सीआरपीएफ की अहम भूमिका

news

गया,27 जुलाई (हि.स.) ।केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल की देश की आंतरिक सुरक्षा में अहम भूमिका है। सीआरपीएफ की 82वींं वर्षगांठ को 159 बटालियन सीआरपीएफ, गया ने सोमवार को बड़े उत्साह के साथ मनाया । इस मौके पर कमांडेंट डा.निशित कुमार ने बताया कि केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल का गठन 27 जुलाई 1939 को नीमच (मध्य प्रदेश) में क्राउन रिप्रेजेन्टेटिव पुलिस के नाम से हुआ था। आजादी के बाद 28 दिसम्बर 1949 को गृह मंत्री, सरदार बल्लभ भाई पटेल ने संविधान अधिनियम के तहत इसे केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल नाम दिया । केन्द्रीय रिवर्ज पुलिस बल विश्व का सबसे बड़ा अर्द्ध सैनिक बल है। उन्होंने कहा कि 159 बटालियन, केरिपुबल, को गया (बिहार) में आंतरिक सुरक्षा एवं नक्सलियों के खात्मे के लिए तैनात किया गया है। वाहिनी, गया जिले में आंतरिक सुरक्षा बनाये रखने एवं नक्सलवाद पर नकेल कसने में एक विशेष भुमिका निभा रही है। अवधेश कुमार एवं सोहन सिंह, द्वितीय कमान अधिकारी, मोती लाल, अम्बर घोष, उप कमाण्डेन्ट, डा. रोहिणी कुमारी, चिकित्सा अधिकारी एवं अन्य जवानों ने कार्यक्रम में हिस्सा लिया। इस दौरान 159 बटालियन ने अपने वाहिनी के शहीद अधिकारियों एवं कर्मियों को श्रद्धांजलि अर्पित कर उनके बलिदान को याद किया। इस अवसर पर महानिदेशालय, केरिपुबल, नई दिल्ली द्वारा 159 बटालियन के कुल 19 कर्मियों को अति उत्कृष्ट पदक, 13 कर्मियों उत्कृष्ट पदक एवं 05 अधिकारियों और कर्मियों को डीजी प्रशंसा डिस्क से नवाजा गया है। हिंदुस्थान समाचार/पंकज कुमार/विभाकर-hindusthansamachar.in