दीक्षांत समारोह को लेकर आज होगी जेपीविवि में महत्वपूर्ण बैठक
दीक्षांत समारोह को लेकर आज होगी जेपीविवि में महत्वपूर्ण बैठक
बिहार

दीक्षांत समारोह को लेकर आज होगी जेपीविवि में महत्वपूर्ण बैठक

news

छपरा, 13 दिसम्बर (हि.स.)। जयप्रकाश विश्वविद्यालय में वर्चुअल दीक्षांत समारोह के आयोजन को लेकर कुलपति ने सोमवार को सभी संकाय के अध्यक्षों की बैठक आहूत की है और उन्हें ससमय बैठक में उपस्थित होने का निर्देश दिया है। इस आशय का आदेश परीक्षा नियंत्रक ने जारी किया है। परीक्षा नियंत्रक प्रोफेसर अनिल कुमार सिंह ने रविवार को बताया कि वर्चुअल दीक्षांत समारोह की सभी तरह की तैयारी काफी कम समय में पूरी करनी है। यह विश्वविद्यालय प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती है और विश्वविद्यालय प्रशासन ने इसे चुनौती के रूप में स्वीकार किया है और व्यापक स्तर पर तैयारी शुरू कर दी गई है। इस आयोजन को लेकर यह दूसरी बैठक हो रही है। इसके पहले आयोजित बैठक में 11 सदस्य आयोजन समिति का गठन कर लिया गया है। वर्चुअल दीक्षांत समारोह की तकनीकी पहलुओं पर चर्चा होगी। इसके साथ-साथ कार्यक्रम की रूपरेखा निर्धारित किया जायेगा एवं दीक्षांत समारोह में दीक्षित होने वाले छात्र-छात्राओं की संख्या तय किया जायेगा। कार्यक्रम में विश्वविद्यालय पदाधिकारियों के अलावा अतिथियों की उपस्थिति वर्चुअल एवं भौतिक रूप से सुनिश्चित करने समेत कई बिंदुओं पर विस्तृत रूप से चर्चा होगी। बताते चलें कि जयप्रकाश विश्वविद्यालय में पहली बार वर्चुअल दीक्षांत समारोह का आयोजन किया जा रहा है और छात्र छात्राओं को वर्चुअल रूप से दीक्षित किया जायेगा। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम तथा बचाव के मद्देनजर स्वयं राज्यपाल सह कुलाधिपति ने भौतिक रूप से समारोह में उपस्थित होने के बजाय वर्चुअल रूप से समारोह में शामिल होने का पत्र भेजा है और 15 दिसंबर से 20 दिसंबर के मध्य किसी भी दिन दीक्षांत समारोह आयोजित करने का आदेश दिया है, लेकिन तिथि का निर्धारण कुलाधिपति सह राज्यपाल के सहमति के उपरांत ही किया जायेगा। फिलहाल तिथि का निर्धारण नहीं हो सका है। इसको लेकर विश्वविद्यालय के अलावा सभी कॉलेजों में तैयारी शुरू कर दी गई है। विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के संक्रमण काल में पहली बार हो रहे वर्चुअल दीक्षांत समारोह को सफल बनाना बहुत बड़ी चुनौती होगी। इस कार्यक्रम के प्रसारण तथा इस कार्यक्रम से अधिक से अधिक लोगों को जोड़ना खासकर छात्र-छात्राओं शिक्षकों एवं अभिभावकों को जोड़ने के लिए तकनीकी पहलुओं पर विशेष जोर दिया जा रहा है। हिन्दुस्थान समाचार / गुड्डू-hindusthansamachar.in