जेपीविवि में निरीक्षण के दौरान अनुपस्थित मिले आधा दर्जन कर्मचारी,  होगी कार्रवाई
जेपीविवि में निरीक्षण के दौरान अनुपस्थित मिले आधा दर्जन कर्मचारी, होगी कार्रवाई
बिहार

जेपीविवि में निरीक्षण के दौरान अनुपस्थित मिले आधा दर्जन कर्मचारी, होगी कार्रवाई

news

छपरा, 05 दिसम्बर (हि.स.)। जेपीविवि के कुलपति प्रो.फारूक अली ने विवि पीजी विभाग के लिए निर्माणाधीन भवन का निरीक्षण कर शनिवार को तैयारियों का जायजा लिया। इसी दौरान कुलपति विवि के रजिस्ट्रेशन सेक्शन में चले गए। अचानक कुलपति के पहुंचते ही वहां हड़कंप की स्थिति मच गई। कुलपति ने वहां तैनात कर्मियों से पूछताछ के साथ उस दिन की उपस्थिति की जानकारी ली। बाद में कुलपति ने साथ-साथ चल रहे परिसंपदा पदाधिकारी प्रो.आरके सिंह विवि के अन्य सेक्शन का निरीक्षण कर वंहा उपस्थिति कर्मियों की अधतन रिपोर्ट देने को कहा। जिसके बाद प्रो.आरके सिंह विवि के लगभग सभी सेक्शन में जाकर वंहा का निरीक्षण किया। इस दौरान विभिन्न सेक्शन से करीब आधा दर्जन कर्मी अनुपस्थित पाए गए। प्रो.सिंह ने अपनी रिर्पोट विवि प्रशासन को सौंप दी है। जिसके बाद अनुपस्थित कर्मियों से शो कॉज पूछने की तैयारी चल रही है। जनसंपर्क अधिकारी प्रो हरिश्चंद्र ने बताया कि अनुपस्थित कर्मचारियों के खिलाफ़ कार्रवाई की जायेगी। दिसंबर के अंत तक पीजी के सभी विभाग विश्वविद्यालय में होंगे शिफ्ट जयप्रकाश विश्वविद्यालय परिसर में सभी विभागों को शिफ्ट करने की तैयारी जोर शोर से शुरु कर दी गयी है। साथ ही सभी विभागों का राष्ट्रीय मूल्यांकन परिषद से मूल्यांकन कराने की भी तैयारी की जा रही है। इसको लेकर कुलपति प्रो फारूक अली ने विश्वविद्यालय परिसर में पीजी विभागों के भवनों के निर्माण कार्य का जायजा लिया और उसे शीघ्र पूरा करने का निर्देश दिया। विश्वविद्यालय के जनसंपर्क पदाधिकारी प्रोफ़ेसर हरिश्चंद्र ने बताया कि दिसंबर 2020 के अंत तक सभी स्नातकोत्तर विभागों को विश्वविद्यालय परिसर में शिफ्ट कर दिया जाएगा। वर्तमान समय में राजेंद्र कॉलेज के छात्रावास में स्नातकोत्तर के आठ विभाग और जयप्रकाश महिला कालेज में स्नातकोत्तर के एक विभाग का संचालन हो रहा है। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय को बेहतर बनाने तथा इससे संबंधित सभी विभागों और कार्यालयों को अपने परिसर में स्थापित करना सर्वोच्च प्राथमिकता है और इस दिशा में कुलपति के दिशा निर्देश में निरंतर प्रयास जारी है । उन्होंने बताया कि स्नातकोत्तर के सभी विभागों को विश्वविद्यालय परिसर में शिफ्ट करने तथा व्यवस्थित करने की तैयारी जोर शोर से की जा रही है। उन्होंने बताया कि कुछ विभागों को और अस्थाई रूप से एक भवन में शुरू किया जायेगा, लेकिन जैसे ही उस विभाग के अपने भवन का निर्माण कार्य पूर्ण हो जायेगा, उसे अपने भवन में शिफ्ट कर दिया जाएगा। इस प्रक्रिया के पूरी होने के साथ ही राष्ट्रीय मूल्यांकन परिषद (नैक) से मूल्यांकन कराने की योजना है। बताते चलें कि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के दिशा निर्देश के आलोक में विश्वविद्यालय तथा सभी विभागों एवं कालेजों का राष्ट्रीय मूल्यांकन परिषद नैक से मूल्यांकन कराना आवश्यक है और इसको लेकर विश्वविद्यालय प्रशासन पूरी तरह तत्पर व सक्रिय है। हिन्दुस्थान समाचार / गुड्डू-hindusthansamachar.in