जिस स्थान पर नोव रविन्द्रनाथ टैगोर ने जहां गीतांजलि  लिखी, वहां  खंडहर से बरामद हुए 11 देसी हथियार
जिस स्थान पर नोव रविन्द्रनाथ टैगोर ने जहां गीतांजलि लिखी, वहां खंडहर से बरामद हुए 11 देसी हथियार
बिहार

जिस स्थान पर नोव रविन्द्रनाथ टैगोर ने जहां गीतांजलि लिखी, वहां खंडहर से बरामद हुए 11 देसी हथियार

news

मुंगेर, 18 अक्टूबर (हि.स.)।मुंगेर से लगभग चार किलोमीटर दूर मुफस्सिल थाना क्षेत्र के हेरिटिज साइट ‘‘पीर पहाड़‘‘ के खंडहर से पुलिस ने रविवार को तस्करी के उद्देश्य से छिपा कर रखी गई 11 देसी पिस्तौल और बन्दूक बरामद की । छापामारी का नेतृत्व पुलिस अधीक्षक लिपि सिंह स्वयं कर रही थीं । पुलिस ने इस मामले में मुफस्सिल थाना क्षेत्र के तौफिर ग्राम निवासी रूपेश यादव और तेरासी ग्राम निवासी संटू चैधरी को गिरफ्तार किया है । पुलिस कई अन्य लोगों से भी पूछताछ कर रही है । छापामारी में सहयोग अनुमंडलीय पुलिस पदाधिकारी नंदजी प्रसाद, ईस्ट कोलोनी थानाध्यक्ष धर्मेन्द कुमार, मुफस्सिल थानाध्यक्ष बृजेश कुमार, वासुदेवपुर ओपी अध्यक्ष सुशील कुमार सिंह, पूरबसराय ओपी अध्यक्ष मृत्युंजय कुमार, सफियासराय ओपी अध्यक्ष गौरव कुमार और जिला आसूचना इकाई के प्रभारी शैलेश कुमार कर रहे थे । पीर-पहाड़ की घेरेबंदी पुलिस ने बीती मध्य रत्रि से ही कर रखी थी। आज सुबह से छापमारी शुरू हुई । स्मरणीय है कि जिस पीर पहाड़ के खंडहर से पुलिस ने भारी संख्या में देसी हथियार बरामद किये, वह खंडहर मुफस्सिल थाना क्षेत्र के शंकरपुर गांव में 13वीं शताबदी से पहाड़ी पर स्थित ‘‘हेरिटिज साइट‘‘ है जहां नोबेल पुरस्कार विजेता महान कवि रविन्द्रनाथ टैगोर ने ‘‘गीतांजलि‘‘ के कुछ अंश लिखे थे । इस स्थान पर कभी पीर बाबा नाम के महान संत भी रहते थे और उन्हीं के नाम पर इस स्थान को ‘‘पीर पहाड़‘‘ के नाम से जाना जाता है । पुलिस अधीक्षक ने जारी प्रेस-विज्ञप्ति में बताया कि पुलिस दल के सदस्यों ने ‘‘मेटल-डिटेक्टर‘‘ और ‘‘ ‘‘डाॅग-स्क्वाॅड्‘‘ की मदद से खंडहर की जमीन के अन्दर खुदाई कर सात देसी पिस्तौल और चार देसी बड़ी बन्दूकें बरामद कीं । उन्होंने बताया कि शस्त्र-तस्कर इन आग्नेयास्त्रों को एक-एककर बेचने की फिराक में थे । छापामारी चार घंटे तक चली । हिन्दुस्थान समाचार / श्रीकृष्ण/विभाकर-hindusthansamachar.in